Monday , December 6 2021
Breaking News
Home / मुंबई / समीर वानखेड़े के पिता की याचिका पर 22 नवंबर को फैसला सुनाएगा बॉम्बे हाई कोर्ट

समीर वानखेड़े के पिता की याचिका पर 22 नवंबर को फैसला सुनाएगा बॉम्बे हाई कोर्ट

बॉम्बे हाई कोर्ट मुंबई नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े की याचिका पर 22 नवंबर को अपना आदेश पारित करेगा। ज्ञानदेव वानखेड़े ने अपनी याचिका में नवाब मलिक के खिलाफ अंतरिम राहत के साथ-साथ उनके परिवार से जुड़े किसी भी व्यक्ति के खिलाफ सोशल मीडिया पर कोई भी मानहानिकारक सामग्री को पोस्ट करने से रोकने की भी मांग की गई है।

जस्टिस माधव जामदार की सिंगल बेंच ने गुरुवार को मलिक और ज्ञानदेव वानखेड़े की ओर से एनसीबी अदिकारी समीर वानखेड़े के जाति प्रमाण पत्र को लेकर चल रहे विवाद से संबंधित अतिरिक्त दस्तावेजों को रिकॉर्ड में लिया है। अदालत ने नवाब मलिक की ओर से दिए गए एक स्कूल प्रवेश फॉर्म और एक स्कूल के छोड़ने वाले प्रमाण पत्र को भी रिकॉर्ड में लिया। जिसमें एनसीपी नेता ने दावा किया था कि यह समीर वानखेड़े से संबंधित है जो यह दर्शाता है कि वह एक मुस्लिम परिवार में पैदा हुए थे। 

वहीं, समीर वानखेड़े के पिता ने भी काउंटर दस्तावेजों का एक सेट कोर्ट को सौंपा जिसमें उनके बेटे का जन्म प्रमाण पत्र और उनका जाति प्रमाण पत्र शामिल था, इसमें कथित तौर पर यह दिखाया गया है कि वह वास्तव में अनुसूचित जाति से संबंधित हैं। जिसके बाद हाई कोर्ट ने दोनों पक्षों को 22 नवंबर को अपने आदेश सुनाए जाने तक कोई भी नया दस्तावेज जमा करने से परहेज करने का निर्देश दिया है।

मलिक ने दावा किया है कि समीर वानखेड़े मुस्लिम परिवार में पैदा हुए थे, लेकिन उन्होंने एससी वर्ग से होने का दावा करते हुए केंद्र सरकार की नौकरी हासिल की है। वहीं, वानखेड़े अपने ऊपर लगे आरोपों से लगातार इनकार करते रहे हैं। नवाब मलिक की ओर से वानखेड़े परिवार को लेकर एक के बाद एक कई दावे के बाद ज्ञानदेव ने मलिक के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया है। जिसमें अन्य बातों के अलावा मलिक को उनके और उनके परिवार के खिलाफ सोशल मीडिया पर अपमानजनक बयान पोस्ट करने से रोकने की मांग की गई थी। मानहानि के मुकदमे में ज्ञानदेव मलिक से 1.25 करोड़ रुपए के हर्जाने की मांग की है।

बता दें कि पिछले महीने मुंबई में एक क्रूज पर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने छापा मारा था। इस मामले में एनसीबी ने शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान समेत लगभग 20 लोगों को गिरफ्तार किया था। आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद से ही महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक एनसीबी और जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े को लेकर कई दावे कर चुके हैं। इस मामले में आर्यन खान समेत अन्य आरोपी जमानत पर बाहर आ गए हैं।

ये भी पढ़ें..

अपर मुख्य सचिव ने की परिवहन एवं ग्रामीण निर्माण विभाग से सम्बन्धित मा. मुख्यमंत्री की घोषणाओं की समीक्षा

हमसे फेसबुक में जुड़ने के लिए यहाँ click करे

About team HNI

Check Also

PM मोदी आज नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का जेवर में करेंगे शिलान्‍यास

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) आज दोपहर एक बजे उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध …

Leave a Reply