Wednesday , November 30 2022
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / अंकिता के कत्ल की रात : ‘हेल्प मी… मुझे जाने दो’ की गुहार लगाती रही मासूम और हैवान ढाते रहे जुल्म!

अंकिता के कत्ल की रात : ‘हेल्प मी… मुझे जाने दो’ की गुहार लगाती रही मासूम और हैवान ढाते रहे जुल्म!

देहरादून। बीते 18 सितंबर को अंकित हत्याकांड की रात पुलकित आर्य और अंकित गुप्ता ने अंकिता पर खूब जुल्म ढाये और हैवानियत भी की थी। अंकिता बार-बार ‘हेल्प मी हेल्प मी, मुझे यहां से बाहर निकालो, मुझे यहां से जाना है’ कहकर चीख रही थी। वहां मौजूद स्टाफ पुलकित आर्य और अंकित की हैवानियत को चुपचाप देख रहे थे। वे हैवान उस मासूम पर चार वीआईपी मेहमानों को ‘अतिरिक्त सेवा’ देने के लिए दबाव बना रहे थे।ये बातें वनंत्रा रिसोर्ट में काम करने वाले एक कर्मचारी ने मीडिया से बातचीत में बताई हैं। कर्मचारी ने बताया कि 18 सितंबर को वह रिजॉर्ट की पहली मंजिल पर मेहमानों का सामान रखने वाले कमरे में था। अचानक उसने किसी के चिल्लाने की आवाज सुनी। बताया कि जब उसने और एक अन्य कर्मचारी ने नीचे देखा तो अंकिता के चिल्लाने की आवाज आ रही थी। अंकिता बार बार ‘हेल्प मी हेल्प मी, मुझे यहां से बाहर निकालो, मुझे यहां से जाना है’ कहकर चीख रही थी।इसी दौरान हैवान बना पुलकित बाहर आया और अंकिता का मुंह दबाकर उसको खींचकर कमरे में ले गया। वहां उस समय मजबूत कद काठी के चार युवक बाहर खड़े थे। कर्मचारी ने बताया कि इस बीच वह सामान लेने के लिए अकेला बाहर आ गया। बाहर एक काली रंग की लग्जरी कार खड़ी थी। कर्मचारी ने बताया कि वे चारों युवक पुलकित और अंकित गुप्ता से मिलने के बाद काली कार से वापस लौट गए। ये वही चार युवक थे जिनको अतिरिक्त सेवा देने के लिए अंकिता पर दबाव बनाया जा रहा था। इससे पहले भी पुलकित ने अंकिता के साथ शराब के नशे में छेड़छाड़ की थी।सूत्रों के अनुसार एसआईटी ने सीसीटीवी कैमरों की फुटेज और सर्विलांस टीम की मदद से चारों वीआईपी मेहमान की पहचान कर ली है। एसआईटी जल्द ही चारों लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में ले सकती है।

About team HNI

Check Also

सरकार का यू टर्न : माना- रामदेव की दवाओं पर बैन यानी गलती से हुई ‘मिस्टेक’!

अब आयुर्वेद विभाग ने हटाई दिव्य फार्मेसी की पांच दवाओं के उत्पादन पर लगाई गई …

Leave a Reply