सुन कर हैरानी होगी. पर सच है. वाकया दिल्ली के संगम विहार इलाके का है. यहां स्टेट बैंक ऑफ इंडिया यानी एसबीआई के एक एटीएम से बच्चों के खेलने के लिए इस्तेमाल होने वाले नोट निकले हैं.
दरअसल कॉल सेंटर में काम करने वाले रोहित को किसी रिश्तेदार की शादी में जाना था. खर्चे तो होने ही थे. इसलिए 8000 रूपए निकालने वो एटीएम पहुंचा.
पैसे निकाले. चल दिए. एटीएम से बाहर निकलते ही कुछ शक हुआ. फिर उसे पर्स निकाल नोट देखे. रोहित के होश उड़ गए. 2000 रूपए के सभी चारों नोट फर्जी थे.
इसमें रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की जगह चिल्ड्रेन बैंक ऑफ इंडिया लिखा हुआ था. फिर आगे नजर गई तो लिखा था – चिल्ड्रेन बैंक ऑफ इंडिया धारक को 2000  का कूपन देने का वादा करता है. सिलसिला यहीं खत्म नहीं हुआ. अशोक चक्र की जगह चूरन लेबल लिखा था.

रोहित ने आनन-फानन में 100 नंबर डायल कर पुलिस वालों को बुलाया. संगम विहार के सब इंस्पेक्टर पहुंचे. हैरत में थे. तो खुद ही आजमाने की ठानी. एक्सिस बैंक के एटीएम से एक दो हजार का नोट निकाला. नतीजा रोहित वाला ही निकला.
फिर आनन-फानन में बैंक को सील कर दिया गया. थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है.
उधर एसबीआई का कहना है कि ऐसा हो नहीं सकता. फिर भी जांच की जा रही है.