Wednesday , June 16 2021
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / उत्तराखंड : घर पर प्रसव में जुड़वा बच्चों की मौत के बाद चार अस्पतालों के धक्के खाकर प्रसूता ने भी तोड़ा दम

उत्तराखंड : घर पर प्रसव में जुड़वा बच्चों की मौत के बाद चार अस्पतालों के धक्के खाकर प्रसूता ने भी तोड़ा दम

राजधानी की स्वास्थ्य सेवाओं पर उठे सवाल

  • सीएमओ ने मामले में बैठाई जांच, कहा- प्रसूता की मौत के मामले में दोषियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई
  • कोविड और नोन कोविड के फेर में एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल में धक्के खाने में प्रसूता की गई जान
  • गांधी शताब्दी अस्पताल प्रसव के लिए पहुंची थी प्रसूता, लेकिन टरका दिया और घर जाते ही जन्मे जुड़वा बच्चों की हुई मौत

देहरादून। पहले प्रसव के लिये और घर में जन्में जुड़वा बच्चों की मौत के बाद चार अस्पतालों में इलाज के लिए धक्के खाने के बाद प्रसूता ने भी दून अस्पताल में दम तोड़ दिया। राजधानी में हुई इस घटना को बड़ी लापरवाही मानते हुए सीएमओ डॉ. बीसी रमोला ने जांच बैठा दी है। महिला ने दो दिन पहले घर पर ही जुड़वा बच्चों को जन्म दिया था, जिनकी मौत हो गई थी।
जानकारी के मुताबिक देहराखास निवासी एक 24 वर्षीया महिला की दून अस्पताल के आईसीयू में मौत हो गई। महिला अस्पताल में गंभीर स्थिति में लाई गई थी। बताया जा रहा है कि खून की कमी के चलते उसकी मौत हुई है। महिला कोरोनेशन और फिर गांधी अस्पताल से रेफर होकर दून अस्पताल लाई गई थी। दून अस्पताल में डॉक्टरों ने महिला को कोरोना संदिग्ध न बताते हुए नॉन कोविड हायर सेंटर रेफर कर दिया था। इसके बाद महिला की डिलीवरी नौ जून को घर पर ही हुई थी। उसने जुड़वा बच्चों जन्म दिया था, जिनकी घर पर ही मौत हो गई थी। कोरोना जांच के लिए उसका सैंपल लिया गया है।
सीएमओ डॉ. बीसी रमोला ने बताया कि जहां तक उन्हें जानकारी मिली है, महिला को कोरोनेशन, गांधी अस्पताल, दून अस्पताल और एक निजी अस्पताल ले जाया गया था। महिला को इलाज क्यों नहीं मिल पाया और किस स्तर पर चूक हुई, इसकी पूरी जांच कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि मामले में जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
विडंबना यह है कि कोविड और नॉन कोविड के फेर में मरीजों की जान खतरे में डाली जा रही है। देहराखास कि प्रसूता की मौत ने राजधानी में स्वास्थ्य सेवाओं पर सवाल खड़े कर दिए हैं। एक ओर जहां मरीज अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं तो दूसरी ओर सामान्य गर्भवतियों के लिए दून अस्पताल के दरवाजे बंद हैं। गांधी शताब्दी अस्पताल में गर्भवतियों की डिलीवरी की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है।
गौरतलब है कि कोरोना महामारी के बीच दून अस्पताल को कोविड हॉस्पिटल घोषित किया गया है। स्वास्थ्य विभाग ने यह भी निर्णय लिया कि गर्भवतियों की डिलीवरी गांधी शताब्दी अस्पताल में कराई जाएगी। दून अस्पताल में केवल उन्हीं गर्भवती की डिलीवरी कराई जाएगी, जो या तो किसी पाबंद इलाके से आएगी या कोरोना संदिग्ध या पॉजिटिव होगी। इन नियमों के फेर में रोजाना गर्भवती महिलाएं अस्पतालों के चक्कर काट रही हैं, लेकिन उन्हें कोविड और नॉन कोविड के नाम पर अस्पतालों के चक्कर कटाए जा रहे हैं। उधर गांधी शताब्दी अस्पताल में कम संसाधनों के बीच गर्भवती महिलाओं को मुश्किलें झेलनी पड़ रही हैं। इनके बावजूद राजधानी में गर्भवती महिलाओं के इलाज के लिए कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं बन पाई है।
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक देहराखास की महिला नौ जून को गांधी शताब्दी अस्पताल डिलीवरी के लिए पहुंची थी। लेकिन यहां उसे यह कहकर वापस भेज दिया कि अभी डिलीवरी में समय है। महिला घर गई तो प्रसव हो गया। प्रसव के बाद जुड़वा बच्चों की घर पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि घर पर डिलीवरी की वजह से महिला में खून की कमी हो गई और यही उसके लिए जानलेवा साबित हुई। नौ जून को हुए घटनाक्रम में ही लापरवाही की दास्तान छिपी हुई है।

loading...

About team HNI

Check Also

शाबाश! निहारिका 1000 सैल्यूट

कोरोना संक्रमित ससुर को पीठ पर उठाकर दो किमी अस्पताल ले गईअपनों को कंधा न …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *