देहरादून। प्रदेश में लगातार हो रही बारिश ने पहाड़ी इलाकों को बेहाल किया हुआ है। चारों धाम के यात्रा मार्ग मलबा आने से अवरुद्ध हो गये हैं।
उत्तरकाशी जिले के बड़कोट में यमुनोत्री क्षेत्र से लगे कुपडा गांव में बीते बुधवार की रात बादलों ने तबाही मचा दी। यहां भारी बारिश के कारण कई भवनों में मलबा घुस गया। कई पैदल मार्ग व गांव को जोड़ने वाले संपर्क मार्ग क्षतिग्रस्त हो गए। केदारनाथ यात्रा मार्ग रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड हाईवे पर कई जगह पर मलबा आने से बंद है। रुद्रप्रयाग जिले में 20 से ज्यादा संपर्क मार्ग बंद हैं। यहां आज गुरुवार सुबह से बादल छाये हुए हैं और तेज बारिश से आसार जताए जा रहे हैं।
बदरीनाथ हाईवे क्षेत्रपाल में अवरुद्ध है। जिले में अभी भी 17 संपर्क मोटर मार्ग भूस्खलन और मलबा आने से बंद हैं। गंगोत्री हाईवे स्वारीगाड़ और बार्सू बैंड के पास मलबा आने से बंद है। बीआरओ द्वारा मार्ग खोलने के प्रयास जारी हैं। यमुनोत्री हाईवे कुथनौर और पालीगाड़ के पास मलबा और बोल्डर आने से अवरुद्ध है।
केदारघाटी में मूसलाधार बारिश के कारण रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड हाईवे बुधवार को जगह-जगह भूस्खलन व भूधंसाव के कारण दिनभर बंद रहा। बांसवाड़ा व डोलिया मंदिर के समीप हाईवे की स्थिति बदहाल हो गई है।मंगलवार रात हुई बारिश के कारण गौरीकुंड हाईवे बांसवाड़ा, भीरी, डोलिया मंदिर, सीतापुर, मुनकटिया और गौरीकुंड बड़ी पार्किंग के समीप पहाड़ी से भूस्खलन व भूधंसाव के कारण बंद हो गया था। बुधवार सुबह एनएच व कार्यदायी संस्था ने मलबा हटाने का प्रयास किया, लेकिन रुक-रुककर होती बारिश के कारण हाईवे नहीं खुल पाया।