Wednesday , June 12 2024
Breaking News
Home / अंतरराष्ट्रीय / चांद पर भारत की पहचान ‘शिवशक्ति’ और ‘तिरंगा’ पॉइंट क्‍या हैं? जानिए सब कुछ…

चांद पर भारत की पहचान ‘शिवशक्ति’ और ‘तिरंगा’ पॉइंट क्‍या हैं? जानिए सब कुछ…

भारत का चंद्रयान जैसे ही चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव की सतह पर पहुंचा, ये इतिहास रचने वाला विश्व का पहला देश बन गया। 23 अगस्त 2023, शाम 6 बजकर 4 मिनट पर चांद पर भारत का सूर्योदय इस चमकते हुए मिशन चंद्रयान-3 की लैंडिंग के साथ हुआ। अंतरिक्ष में इंसान जहां जाता है, उस जगह को कोई नाम दे देता है। चंद्रयान-3 के लैंडर मॉड्यूल ने जहां पर कदम रखे, उस जगह का नामकरण हो गया है, पीएम मोदी ने चंद्रयान-3 की लैंडिंग साइट को ‘शिवशक्ति’ नाम दिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को बेंगलुरु में चंद्रयान-3 मिशन में शामिल इसरो टीम के वैज्ञानिकों से मुलाकात की, पीएम मोदी ने इसरो चीफ एस सोमनाथ को गले लगाया और पीठ थपथपाई। पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों को सैल्यूट करते हुए कहा क‍ि चंद्रयान महाअभियान सिर्फ भारत की नहीं, बल्कि पूरी मानवता की सफलता है। पीएम ने चंद्रयान-2 के इम्पैक्ट पॉइंट को भी एक नाम दिया। अब उसे ‘तिरंगा’ के नाम से जाना जाएगा। 2019 में यहीं पर चंद्रयान-3 का लैंडर क्रैश हो गया था। बाद में उसकी लोकेशन का पता लगा।

चांद पर मौजूद ‘शिवशक्ति’ और ‘तिरंगा’ पॉइंट कहां हैं, उनके बारे में जानिए।

चांद पर शिवशक्ति पॉइंट क्‍या है

  • चंद्रमा के जिस हिस्से पर 23 अगस्‍त 2023 की शाम को चंद्रयान-3 का लैंडर मॉड्यूल उतरा, अब उस पॉइंट को ‘शिवशक्ति’ के नाम से जाना जाएगा।
  • ISRO ने चंद्रयान-3 की लैंडिंग साइट का फोटो जारी किया था जो आप ऊपर देख सकते हैं। इसमें लैंडर का एक पैर और परछाई दिख रही है।
  • अमेरिका के Lunar Reconnaissance Orbiter Camera के अनुसार, चंद्रयान-3 का लैंडर इन कोऑर्डिनेट्स पर है – 69.37282, 32.31837
  • पीएम मोदी ने कहा, ‘यह ‘शिवशक्ति’ पॉइंट आने वाली पीढ़ियों को प्रेरणा देगा कि हमें विज्ञान का उपयोग मानवता के कल्याण के लिए ही करना है। मानवता का कल्याण हमारी सर्वोच्च प्रतिबद्धता है।’

चांद पर तिरंगा पॉइंट क्‍या है

  • चंद्रमा के जिस स्थान पर चंद्रयान-2 अपने निशान छोड़े हैं, वह पॉइंट अब ‘तिरंगा’ कहलाएगा।
  • PM मोदी ने कहा कि ये तिरंगा पॉइंट भारत के हर प्रयास की प्रेरणा बनेगा, ये तिरंगा प्वाइंट हमें सीख देगा कि कोई भी विफलता आखिरी नहीं होती।
  • दिसंबर 2019 में NASA के LROC ने लैंडर विक्रम की इम्‍पैक्‍ट साइट 70.8810°S 22.7840°E पर होने का पता लगाया था।​

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक और महत्‍वपूर्ण घोषणा की। उन्‍होंने कहा, ’23 अगस्त को जब भारत ने चंद्रमा पर तिरंगा फहराया, उस दिन को अब राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस के रूप में मनाया जाएगा।’

About team HNI

Check Also

पीएम मोदी के किन नेताओं को मिली हार, किसके हाथ लगी जीत, जानिए एक क्लिक में यहाँ…

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के नतीजे काफी हद तक साफ हो चुके हैं। 543 सीटों …

Leave a Reply