Monday , August 2 2021
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / ‘पतंजलि बताये, कैसे बना ली कोरोना की दवा’!

‘पतंजलि बताये, कैसे बना ली कोरोना की दवा’!

विवादों में रामदेव की दवा

  • सरकार ने कहा- लाइसेंस तो केवल इम्युनिटी बूस्टर बनाने का दिया था, कोरोना की दवा का नहीं
  • आयुष ड्रग्स लाइसेंस अथॉरिटी देगा पतंजलि को नोटिस, केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने मांगे दस्तावेज
  • पतंजलि में स्वामी रामदेव और बालकृष्ण ने मंगलवार दोपहर लांच की थी दवा, शाम को लगी रोक

देहरादून/हरिद्वार। पतंजलि योगपीठ की ओर से कोरोना की दवा बताकर लांच की गई कोरोनिल और श्वासारि दवा विवादों में घिर गई है। केंद्रीय मंत्रालय की ओर से दवा के प्रचार-प्रसार पर रोक लगाने और उत्तराखंड सरकार से इस संबध में जवाब-तलब करने के बाद मामला गरमा गया है।
प्रदेश के आयुष विभाग का कहना है कि पतंजलि को इम्युनिटी बूस्टर बनाने का लाइसेंस दिया गया था। कोरोना की दवा कैसे बना ली और दवा की किट का विज्ञापन क्यों किया गया, इसका पता लगाया जाएगा। इस पर आयुष ड्रग्स लाइसेंस अथॉरिटी की ओर से पतंजलि को नोटिस जारी किया जाएगा। 
आयुर्वेद ड्रग्स लाइसेंस अथॉरिटी के प्रभारी डॉ. वाईएस रावत का कहना है कि पतंजलि को इम्युनिटी बूस्टर और बुखार, खांसी की दवा बनाने का लाइसेंस दिया गया था। कोरोना दवा बनाने का कोई लाइसेंस नहीं दिया गया है। इस पर पतंजलि को नोटिस जारी किया जाएगा।
केंद्रीय आयुष मंत्रालय की ओर से दवा के प्रचार प्रसार पर रोक लगाने के संबंध में आचार्य बालकृष्ण का कहना है कि हमारी दवा और दावा दोनों पूरी तरह सही हैं। केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने इनसे जुड़ी कुछ जानकारियां मांगी थीं, जो उपलब्ध करा दी गई हैं।
निदेशक आयुर्वेद विभाग आनंद स्वरूप ने कहा कि आयुष मंत्रालय की ओर से नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है। पतंजलि को इम्युनिटी बूस्टर बनाने का लाइसेंस दिया गया था। मंत्रालय की ओर से लाइसेंस संबंधित दस्तावेज मांगें गए हैं।

About team HNI

Check Also

दून विवि में हुई अंबेडकर चेयर की स्थापना

राज्यपाल, मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री ने कार्यक्रम में किया प्रतिभाग देहरादून। आज शुक्रवार को राज्यपाल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *