Wednesday , June 26 2024
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / उत्तराखंड में 20 हजार से ज्यादा स्थलों पर लोग देखेंगे रामलला का प्राण प्रतिष्ठा समारोह, की गई ये व्यवस्था

उत्तराखंड में 20 हजार से ज्यादा स्थलों पर लोग देखेंगे रामलला का प्राण प्रतिष्ठा समारोह, की गई ये व्यवस्था

देहरादून। अयोध्या में 22 जनवरी को होने वाले रामलला के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की भव्य तैयारी जोर शोर से चल रही है। कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता विशिष्ट जनों को भेजा जा रहा है। श्रीराम मंदिर में होने वाले भगवान श्रीराम के बाल रूप नूतन विग्रह के प्राण प्रतिष्ठा समारोह से संपूर्ण देवभूमि भी जुड़ेगी। राज्य में इन दिनों विश्व हिंदू परिषद समेत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के 32 आनुषांगिक संगठन राम काज में जुटे हैं। उत्तराखंड में विभिन्न मंदिरों समेत 20 हजार से अधिक स्थलों पर विशाल एलईडी स्क्रीन पर इस समारोह का सीधा प्रसारण देखने की व्यवस्था की जा रही है। रामलला के विराजमान होने पर शाम को दीपोत्सव मनेगा।

भगवान श्रीराम के नूतन बाल रूप विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर समूचे उत्तराखंड में वातावरण राममय होने लगा है। विश्व हिंदू परिषद की अगुआई में इन दिनों राज्यभर में जगह-जगह कलश यात्राएं, घर संपर्क कर पूजित अक्षत वितरण जैसे कार्य चल रहे हैं। 15 जनवरी तक यह क्रम चलेगा। साथ ही, 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा समारोह का सीधा प्रसारण सामूहिक रूप से देखने को कार्ययोजना तैयार कर ली गई है।

विश्व हिंदू परिषद के प्रांत संगठन मंत्री अजय के अनुसार उत्तराखंड में 16 हजार से अधिक गांवों और सभी 105 शहरों में लोग प्राण प्रतिष्ठा समारोह का सीधा प्रसारण देखेंगे। ये कार्यक्रम मंदिर केंद्रित होने के साथ ही सार्वजनिक स्थलों में भी एलईडी स्क्रीन की व्यवस्था की जाएगी। इन स्थलों की संख्या 20 हजार से अधिक है। रूपरेखा इस तरह से बनाई गई है कि रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के दिन सुबह से ही मंदिरों समेत इन सभी स्थलों पर सुंदरकांड पाठ, कीर्तन-भजन के कार्यक्रम होंगे, जो दोपहर 12 बजे तक चलेंगे। इसके बाद दोपहर 12 से एक बजे तक सभी लोग प्राण प्रतिष्ठा समारोह का सीधा प्रसारण देखेंगे। तत्पश्चात प्रसाद वितरण होगा।

दीपोत्सव के साथ ही विशेष सजावट:- अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होने के बाद 22 जनवरी की शाम को देशभर की भांति उत्तराखंड में भी दीपोत्सव मनाया जाएगा। घरों, मंदिरों व सार्वजनिक स्थलों पर दीप प्रज्ज्वलित किए जाएंगे। साथ ही, घरों, प्रतिष्ठानों व सार्वजनिक स्थलों पर विशेष सजावट की जाएगी। विश्व हिंदू परिषद के प्रांत संगठन मंत्री अजय के अनुसार इस सिलसिले में व्यापार मंडल समेत अन्य संगठनों व रामभक्तों से वार्ता हो चुकी है।

देवभूमि से 258 संत होंगे शामिल:- विश्व हिंदू परिषद के प्रांत संगठन मंत्री ने बताया कि 22 जनवरी को अयोध्या में होने वाले प्राण प्रतिष्ठा समारोह में देवभूमि उत्तराखंड से 258 संत भी शामिल होंगे। इनमें सभी अखाड़ों के अध्यक्ष, महामंत्री, कोठारी, आचार्य महामंडलेश्वर हैं। यही नहीं, राज्य के 13 अन्य विशिष्ट जन भी समारोह में आमंत्रित किए गए हैं।

About team HNI

Check Also

पीएम मोदी के किन नेताओं को मिली हार, किसके हाथ लगी जीत, जानिए एक क्लिक में यहाँ…

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के नतीजे काफी हद तक साफ हो चुके हैं। 543 सीटों …

Leave a Reply