Friday , September 25 2020
Breaking News
Home / चर्चा में / पीएम मोदी की ये चूक देश को पड़ सकती है भारी, बहेंगी खून की नदियां
pm modi photos

पीएम मोदी की ये चूक देश को पड़ सकती है भारी, बहेंगी खून की नदियां

भारत में भाजपा की सत्ता आने के बाद से ही लगातार यह आरोप लगते रहे हैं कि हिन्दूवाद और मजहबी हिंसा को बढ़ावा मिला है। इस बात पर पीएम मोदी को भी कई बार आलोचना का शिकार बनना पड़ा। कभी गौं रक्षा के नाम पर तो कभी धर्म को लेकर हिंसा भड़क उठती हैं। कुछ लोगो के लिए गौं रक्षा तो जैसे राष्ट्रीय मुद्दा बन गया है। इसके लिए ये लोग किसी भी हद तक जा सकते हैं। पीएम मोदी की सरकार लगातार सांप्रदायिक हिंसा को रोकने के दावा करती हो लेकिन सच्चाई यही है कि सरकार पूरी तरह नाकाम साबित हो रही है। अमेरिकी एक्सपर्ट का भी ऐसा ही कुछ मानना हैं उनके अनुसार भारत में बढ़ते मजहबी हमले अल कायदा के लिए मददगार बन सकते हैं। इसलिए पीएम मोदी को इस दिशा में गंभीरता की जरूरत है। वरना ये प्रधानमंत्री मोदी की चूक साबित हो सकती है।

अमेरिकी एक्सपर्ट जोन्स ने कहा कि अल कायदा खुद को भारतीय उपमहाद्वीप में दोबारा से स्थापित करने की कोशिश कर रहा है।

ISIS  के मजबूत होने के बाद इराक के मगरिब और साहेल में दोबारा से स्थापित करने में जुटा है। वह भारत में घुसपैठ करा सकता है। दरअसल अल कायदा भारतीय उपमहाद्वीप में मजबूत होना चाहता है।

मौजूदा हालात में अल कायदा सीरिया, यमन, अफगानिस्तान, पाकिस्तान और जैसे कई देशों में एक्टिव है। और भारत में इन सांप्रदायिक हिंसा का माकूल फायदा उठा कर अपने पैर पसार सकता हैं।

अमेरिकी एक्सपर्ट ने कहा कि भारतीय उपमहाद्वीप के हालात पर नजर रखना बेहद जरूरी है, क्योंकि इस कारण भारत में अशांति बढ़ रही है। मजहबी हिंसा के चलते भारत आतंकियों के लिए वॉर जोन में तब्दील हो सकता है।

जोन्स ने कहा, “अल कायदा का भारतीय उपमहाद्वीप में विस्तार की वजह अफगानिस्तान में तालिबान की मजबूती हो सकती है। अल कायदा के तालिबान और अन्य संगठनों जैसे तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान और लश्कर-ए-झांगवी से भी रिश्ते हैं।”

जोन्स ने कहा, “इस आतंकी संगठन ने अफगानिस्तान और पाकिस्तान में कुछ हमलों को अंजाम दिया है, जो तालिबान की अगुआई में ज्यादा कारगर नहीं होते।”

बता दें कि सितंबर 2014 में अल कायदा के सरगना अयमान अल-जवाहिरी ने अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश में अपनी मौजूदगी का फायदा उठाने के लिए भारतीय उपमहाद्वीप में अपना क्षेत्रीय संगठन बनाने का ऐलान किया था।”

अल-जवाहिरी ने कहा था कि भारतीय उप महाद्वीप में अल कायदा के नए संगठन का नाम कायदा-अल-जिहाद है जिसके जरिये इस पूरे उप महाद्वीप में इस्लाम का राज फिर से स्थापित किया जाएगा।

source – Live Today

loading...

About team HNI

Check Also

bjp

गुजरात में भाजपा करोड़ों रुपए में खरीद रही है विधायक

कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी पर गुजरात में राज्यसभा चुनाव से पहले विधायकों की खरीद-फरोख्त …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *