Monday , August 2 2021
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / जनभावनाओं का सम्मान है गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाना

जनभावनाओं का सम्मान है गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाना

त्रिवेंद्र सरकार ने गैरसैण में की गई घोषणा के ठीक 3 महीने बाद अधिसूचना जारी कर भराड़ीसैण (गैरसैण) को ग्रीष्मकालीन राजधानीबना दिया गया। क्या इसे केवल एक घटना मात्र के तौर पर लिया जाना चाहिए। राज्य बनने के 20 साल बाद गैरसैण को ग्रीष्मकालीनराजधानी बनाने के क्या मायने हैं। सबसे पहले जानना होगा कि गैरसैण क्या है। और अगर गैरसैण को जानना है तो लम्बे समय तक चलेराज्य आंदोलन और इसकी भावनाओं को समझना होगा।
उत्तराखंड को अलग राज्य बनाने की लड़ाई लगभग पांच दशक से अधिक समय से लड़ी जाती रही है। तब पहाड़ी राज्य उत्तराखंड कीपरिकल्पना की गई थी। पर्वतीय क्षेत्रों का विकास की उम्मीद को केन्द्र में रखकर ही उत्तराखण्ड के निर्माण की लड़ाई लड़ी गई थी। राज्य निर्माण आन्दोलन के शुरूआती दौर से ही गैरसैंण को राजधानी बनाये जाने की संकल्पना हर आंदोलनकारी के मन में रही। वीरचंद्र सिंह गढवाली की तपोभूमि और जन भावनाओं से जुड़ा यह क्षेत्र उत्तराखण्ड वासियों के लिये केवल एक स्थान नहीं बल्कि एक विचारभी है। यह गढ़वाल और कुमाऊ की सांस्कृतिक परम्पराओं के समन्वय स्थल है। गैरसैण, उत्तराखण्ड की अस्मिता से जुड़ा विषय भी रहाहै। गैरसैण शब्द का उच्चारण करते ही राज्य आंदोलन की तमाम घटनाओं के दृश्य हर उत्तराखण्डी के मन-मस्तिष्क में चलने लगते हैं।

मैंने अपने पत्रकारिता के करीब 30 साल के कैरियर में उत्तराखंड आंदोलन को न केवल करीब से देखा। बल्कि आंदोलन को चरम तकपहुंचाने और उसकी धार को तेज करने के लिए पत्रकारिता के जरिए जितना योगदान दे सकता था, दिया। आंदोलन के दौरान पुलिसऔर पीएसी की लाठियां भी खाई। कर्फ्यू के दौरान न केवल पत्रकारिता के जरिए आंदोलन को घर- घर तक पहुंचाया बल्कि उसे एकमुकाम तक पहुंचाने में अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग भी दिया। इन बातों को कहने के पीछे मेरा ध्येय केवल आपको यह बताना है कि है किगैरसैंण हरेक राज्य आंदोलनकारियों की आत्मा में बसता है।
गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाना केवल एक घोषणा मात्र ही नहीं बल्कि जनभावनाओ का सर्वोच्च सम्मान है। जिस विजन केसाथ उत्तराखण्ड का निर्माण किया गया, उस विजन को आगे बढ़ाना है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का गैरसैंण को ग्रीष्मकालीनराजधानी बनाना जनभावनाओं को आदर देना है। इसमें कोई अहंकार नहीं और न ही श्रेय लेने की इच्छा, यह केवल और केवल जनादेशको सर झुकाकर स्वीकार करना है। आंदोलन से उपजे इस उत्तराखंड के लिए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हृदय के भावों को एकसाथ पिरोकर दायित्व के फलक पर ऐसा इंद्रधनुष खींचा, जो अंसभव सा लगता था। उत्तराखंड राज्य को बने हुए 20 साल हो गए हैं।इतने सालों में हर बार हर सरकार के सामने गैरसैंण को राजधानी बनाने का मुद्दा सड़क से लेकर विधानसभा तक गूंजता रहा। पर इन 20 सालों में किसी भी मुख्यमंत्री ने गैरसैंण को राजधानी, चाहे वह ग्रीष्मकालीन ही क्यों न हो, की घोषणा करने का साहस नहीं दिखाया। 18 मार्च, 2017 को त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उत्तराखंड के 9 वें मुख्यमंत्री की शपथ ली। भाजपा ने चुनाव के समय ही अपने विजन डाक्यूमेंट मेंजनता से वादा किया था कि यदि उसकी सरकार बनती है तो गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने पर सरकार विचार करेगी। इससरकार के तीन साल के कार्यकाल में उसके सामने भी बार-बार गैरसैंण को राजधानी बनाने का सवाल उठता रहा। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्रसिंह रावत के सामने इस घोषणा को पूरा करने की बड़ी चुनौती भी थी।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत खुद भी राज्य आंदोलनकारी रहे। उनका भी राज्य आंदोलन में उतना ही योगदान है जितना आज हरकोई दावा करता है, बल्कि मैं कहता हूं , उनका योगदान उससे भी ज्यादा है। भाजपा ने तो उत्तरांचल को पहले ही अलग प्रदेश मानकरसंगठन के तौर पर भी एक अलग इकाई का गठन किया था। इस इकाई के जरिए और तत्कालीन भाजपा संगठन महामंत्री के नातेमुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी राज्य आंदोलन को मुकाम तक पहुंचाने में अपना अहम योगदान दिया।
यही कारण है कि राज्य आंदोलनकारियों की भावना को साकार करने में उन्होंने देरी नहीं की। आज की राजनीतिक परिस्थितियों मेंकिसी भी मुख्यमंत्री के लिए यह घोषणा करना आसान नहीं था। तमाम राजनीतिक मुश्किलों के बीच मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आगेबढकर साहसिक फैसला लिया। जितना सहज और सरल आज लोगों को लग रहा है, वास्तव में किसी भी राजनीतिक दल के मुख्यमंत्रीके लिए ग्रीष्मकालीन राजधानी की घोषणा करना उतना आसान नहीं था।
यह काम वही कर सकता था जिसे विकास से अछूते रह गए पहाड़ों की पीड़ा का अहसास हो। 4 मार्च 2020 का दिन उत्तराखण्ड केइतिहास में स्वर्णाक्षरांे में लिखा जाएगा जब मुख्यमंत्री ने भराड़ीसैंण के विधानसभा मंडप में बहुत ही भावुकता भरे लहजे में भराड़ीसैण-गैरसैण को उत्तराखण्ड की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा की। उस अवसर पर मुख्यमंत्री की सहज भावुकता उत्तराखंड केविकास के प्रति उनके समर्पण को भी दर्शाता है।
भराड़ीसैण-गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा का चहुंओर स्वागत किया गया। एक साथ होली और दिवाली मनाईगई। प्रकृति ने भी बर्फबारी के साथ इसका अपने ही अंदाज में स्वागत किया। चारों ओर बर्फ से आच्छादित भराड़ीसैण-गैरसैण कीआकर्षक छवि देश-विदेश में छा गई। गैरसैण सबसे खूबसूरत राजधानी के रूप में अपनी पहचान बनाने जा रही है।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की दृढ़ इच्छा शक्ति और ईमानदार नेतृत्व का ही परिणाम है कि लगभग दो दशकों से लम्बित इसमहत्वपूर्ण मसले पर एक बहुप्रतीक्षित निर्णय जनता के सामने आ पाया है। गैरसैंण को राज्य की ग्रीष्म कालीन राजधानी बनाने से राज्यवासियों में पर्वतीय क्षेत्रों के समग्र विकास की नये सिरे से एक उम्मीद जगी है। मुख्यमंत्री के साहसिक निर्णय से आखिरकार राज्य कीजनभावनाओं के केंद्र गैरसैंण को ग्रीष्म कालीन राजधानी का रुतबा हासिल हो पाया है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के साहसिक फैसलेसे राज्य आंदोलनकारियों की भावनाओं की राजधानी मूर्त रूप ले रही है। भविष्य में राज्य की सरकारों को भी इससे आगे ही कदम बढ़ानेहोंगे। गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाकर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने इतिहास में अपना नाम दर्ज करा लिया है।
परंतु यह फैसला लेना इतना आसान नहीं था। मुख्यमंत्री फैसला लेने से पहले वाली रात को सो नहीं सके थे। पूरी रात सोच विचार औरमंथन के बाद ही उन्होंने यह फैसला लिया। इसकी जानकारी उन्होंने अपने सहयोगी मंत्रियों या विधायकों तक को नहीं दी। शायद वेजानते थे कि यदि फैसले को लेकर पार्टी विधायकों के बीच रायशुमारी की तो हो सकता है कि उन्हें निर्णय लेने से हाथ पीछे खींचने पड़े।इसलिए बिना किसी से विचार विमर्श के ही उन्होंने यह फैसला कर लिया। इसको उन्होंने मीडिया से भी साझा किया। सच में उनकी यहसोच राज्य आंदोलन के शहीदों, मातृशक्ति, नौजवानों व आंदोलनकारियों को समर्पित है। उनका मानना है कि इससे दूरस्थ क्षेत्रों केअंतिम व्यक्ति तक विकास के लक्ष्य को हासिल करने में मदद मिलेगी। ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित करने के बाद अब उनके सामनेराज्य के पहाड़ी जिलों के पिछड़ेपन को दूर और दूरस्थ क्षेत्रों के अंतिम व्यक्ति तक विकास का लाभ पहुंचाने की चुनौती है। जिसके लिएउन्होंने पिछले सवा तीन साल के दौरान कैबिनेट में अनेक महत्वपूर्ण फैसले लिए। सचिवालय से निकलकर दूरस्थ जिलों में कैबिनेटबैठकें आयोजित करने के पीछे भी उनकी राज्य के पहाड़ों के विकास की चिंता ही है।
आज जो कुछ चुंनिदा लोगों को इस घोषणा में भी राजनीति दिखती है, मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि क्या 1994 में राज्य आंदोलन केदौरान हुए गोलीकांड और तत्कालीन केंद्र और यूपी सरकार के उत्तराखंड के प्रति रवैये से राज्य का सपना पूरा होता दिख रहा था ? नहीं।क्या हमने सोचा था कि राज्य का सपना साकार होगा? शायद नही, लेकिन जब केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी जी की सरकार आई, भाजपा ने राज्य के लिए दी गई आंदोलनकारियों की शहादत का सम्मान करते हुए राज्यवासियों का सपना पूरा किया और उत्तराखंड कोअलग राज्य घोषित किया। राज्य की घोषणा इतनी जल्दी होगी, शायद इसका आभास किसी को नहीं था। ठीक इसी तरह से जबमुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अचानक सदन में गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा की तो विपक्ष को सांप सूंघगया। इसकी वजह भी थी कि उत्तराखंड की राजनीति का एक मुद्दा विपक्ष से छीन लिया।
सरकार अब आगे की कार्ययोजना तैयार कर रही है। गैरसैंण में तमाम आवश्यक सुविधाएं विकसित की जानी हैं। गैरसैण में पानी कीसमस्या को दूर करने के लिए पहले से ही झील बनाए जाने पर काम किया जा रहा है। भराडीसेंण में नई टाउनशिप योजना शुरू करने केसाथ ही गैरसैंण क्षेत्र के समग्र विकास की योजनायें तैयार की जा रही हैं। यह क्षेत्र पर्यटन की दृष्टि से भी देश व दुनिया के सामने आये, इसकी भी कार्य योजना बनायी जा रही है।

गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने से अब राज्य की किसी भी नीति के कंेंद्र में पर्वतीय क्षेत्रों का विकास होगा। वैसे तो त्रिवेन्द्र सरकार का पूरा कार्यकाल दूरस्थ और पिछड़े क्षेत्रों का विकास ही रहा है। यह पहली सरकार है जिसने पलायन को गम्भीरता से लियाऔर रिवर्स पलायन को साकार करने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए। केंद्र सरकार के सहयोग से ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल प्रोजेक्टऔर ऑल वेदर रोड़ पर तेजी से काम चल रहा है। ग्रोथ सेंटर, होम स्टे, 13 डिस्ट्रिक्ट 13 डेस्टीनेशन, अटल आयुष्मान योजना, हर जिलेमें आईसीयू की स्थापना, किसानों को जीरो परसेंट ब्याज पर ऋण, मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, मुख्यमंत्री सीमांत क्षेत्र विकास योजनाआदि योजनाओं के केंद्र में गैरसैण संकल्पना ही है। गैरसैण केवल एक स्थान नहीं बल्कि यह पूरे पर्वतीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है।
साभार-दर्शन सिंह रावत
मीडिया समन्वयक, मुख्यमंत्री उत्तराखंड

About team HNI

Check Also

दून विवि में हुई अंबेडकर चेयर की स्थापना

राज्यपाल, मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री ने कार्यक्रम में किया प्रतिभाग देहरादून। आज शुक्रवार को राज्यपाल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *