Wednesday , November 30 2022
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / यूकेएसएसएसी पेपर लीक मामले का करोड़पति मास्टर माइंड गिरफ्तार!

यूकेएसएसएसी पेपर लीक मामले का करोड़पति मास्टर माइंड गिरफ्तार!

पूरी दाल ही निकली काली

  • एसटीएफ ने मुख्य आरोपी जिला पंचायत सदस्य हाकम सिंह को विदेश से लौटते ही दबोचा
  • एक महिला जनप्रतिनिधि भी एसटीएफ के रडार पर, पूछताछ में फंस सकते हैं कई सफेदपोश

देहरादून। एसटीएफ ने उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (यूकेएसएसएससी) के पेपर लीक मामले मे जिला पंचायत सदस्य हाकम सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। उस पर अभ्यर्थियों को हल किया हुआ पेपर मुहैया कराने का आरोप है। लंबी पूछताछ के बाद उसको गिरफ्तार किया गया। पेपर लीक मामले में उत्तरकाशी के दो जनप्रतिनिधियों पर शक की सुई घूम रही थी। इसमें से एक महिला जनप्रतिनिधि है। जिसकी सत्ता तक गहरी पैठ बताई गई है। दोनों जनप्रतिनिधि एसटीएफ के रडार पर चल रहे थे।एसटीएफ ने गिरफ्तारी से पहले संबंधित जनप्रतिनिधियों के खिलाफ पुख्ता सबूत जुटाए। एसटीएफ के अनुसार कई बड़े खुलासे हो सकते हैं और कई सफेदपोश भी फंस सकते हैं। करोड़ों की संपत्ति का मालिक बताया जा रहा जिला पंचायत सदस्य हाकम सिंह को पूरे मामले का मास्टरमाइंड बताया जा रहा है। इस मामले में अब तक 17 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। इससे पहले शनिवार को एसटीएफ ने देहरादून के रायपुर क्षेत्र में रहने वाला तनुज शर्मा वर्तमान में उत्तरकाशी के मोरी स्थित राजकीय इंटर कॉलेज नेटवाड़ में व्यायाम शिक्षक को पकड़ा था। उससे पूछताछ के बाद एसटीएफ ने एक ही क्षेत्र के कई अभ्यर्थियों को चिह्नित किया है जिन्होंने लीक हुए पेपर का फायदा उठाया।एसटीएफ ने आरोपी शिक्षक को पेपर लीक मामले के मास्टरमाइंड का मुख्य सहयोगी बताया है। उसकी नियुक्ति भी वर्ष 2019 में आयोग के माध्यम से हुई थी। उसने वर्ष 2017 में आयोजित सहायक अध्यापक की परीक्षा में उत्तीर्ण की थी। शिक्षक के पूछताछ के बाद एसटीएफ ने हिमाचल जा रहे उत्तरकाशी के जिला पंचायत सदस्य हाकम सिंह को आराकोट बैरियर पर हिरासत में लिया। वह बीते 15 दिन से एसटीएफ के रडार पर था। भनक लगते ही वह बैंकाक चला गया था। वहां से लौटते ही एसटीएफ ने उस पर शिकंजा कसा। बीते दिन ही वह मोरी के कोटगांव सांकरी में अपने रिजॉर्ट में देखा गया था।शनिवार देर शाम वह पंजाब नंबर की एक कार से हिमाचल प्रदेश की ओर जा रहा था। इसी दौरान एसटीएफ और स्थानीय पुलिस ने आराकोट बैरियर पर उसे हिरासत में ले लिया। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि हाकम सिंह पेपर लीक मामले का संदिग्ध है। शिक्षक की गिरफ्तारी के बाद उसका नाम मुख्य साजिशकर्ता के तौर पर सामने आया है। हाकम सिंह को पूछताछ के लिए पकड़ा गया है। देहरादून से एसटीएफ की टीम पूछताछ के लिए रवाना की गई। पूछताछ और पुख्ता सबूतों के बाद गिरफ्तार किया गया।

About team HNI

Check Also

सरकार का यू टर्न : माना- रामदेव की दवाओं पर बैन यानी गलती से हुई ‘मिस्टेक’!

अब आयुर्वेद विभाग ने हटाई दिव्य फार्मेसी की पांच दवाओं के उत्पादन पर लगाई गई …

Leave a Reply