Wednesday , November 30 2022
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / पहाड़ की पीड़ा : रोड बंद होने से एंबुलेंस में कराहती रही प्रसव पीड़िता, नवजात ने दम तोड़ा

पहाड़ की पीड़ा : रोड बंद होने से एंबुलेंस में कराहती रही प्रसव पीड़िता, नवजात ने दम तोड़ा

टिहरी। आज बुधवार को प्रदेश के कई हिस्सों में झमाझम बारिश हो रही है। टिहरी जिले में भी बारिश से नदी नाले उफान पर हैं। आज सुबह डोबरा चांठी पुल क्षेत्र के सिराई के पास सड़क पर भारी मलबा आ गया। जिसमें अन्य वाहनों के साथ प्रसव पीड़िता को ले जा रही एंबुलेंस भी फंस गई। दर्द से कराह रही प्रसव पीड़िता को किसी तरह जिला अस्पताल बौराड़ी पहुंचाया गया। जहां डॉक्टरों ने महिला की डिलीवरी करवाई, लेकिन नवजात की पहले ही मौत हो चुकी थी।
मिली जानकारी के अनुसार आज सुबह करीब 5 बजे डोबरा चांठी पुल और जाख पुल के बीच सिराई के पास अचानक मलबा आ गया, जिससे सड़क बंद हो गई। सड़क बंद होने से लंबगांव से प्रसव पीड़िता को टिहरी जिला अस्पताल ले जा रही एक एंबुलेंस भी फंस गई। बताया जा रहा है कि प्रसव पीड़िता राखी धारमंडल के कफलोग गांव की रहने वाली है। पीड़िता अपने मायके पनियाला गई हुईं थीं, जिसे अचानक प्रसव पीड़ा हुई। परिजन उसे लंबगांव अस्पताल लाए, जहां से डॉक्टरों ने उसे जिला अस्पताल टिहरी के लिए रेफर कर दिया, लेकिन बारिश से मलबा आने से एंबुलेंस रास्ते में ही फंस गई।
किसी तरह प्रसव पीड़िता महिला को जिला अस्पताल बौराड़ी पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने महिला की डिलीवरी करवाई, लेकिन बच्चे की पहले ही मौत हो चुकी थी, जिला अस्पताल बौराड़ी के डॉ. अमित राय ने बताया कि महिला की हिस्ट्री के मुताबिक वो 2 दिनों से प्रसव पीड़ा से पीड़ित थी। जैसे ही महिला को अस्पताल लाया गया, अस्पताल प्रबंधन द्वारा तत्काल महिला का इलाज शुरू किया गया।
उन्होंने बताया कि बच्चे का हाथ बाहर आने से फंसा हुआ था। फिर ऑपरेशन के माध्यम से बच्चे को बचाने का प्रयास किया गया, लेकिन बच्चे की पहले ही मौत हो गई थी। महिला को आईसीयू में भर्ती किया गया है।
मामले की सूचना टिहरी डीएम ईवा आशीष श्रीवास्तव के पास पहुंच गई। जिस पर डीएम ने लोक निर्माण विभाग और आपदा प्रबंधन विभाग को तत्काल सड़क खोलने के निर्देश दिए। जिसके बाद लोनिवि की टीम जेसीबी लेकर मौके पर पहुंची और मलबा हटाया। इसके बाद ही आवाजाही सुचारु हो पाई। डीएम ने सीएमओ को अस्पताल में उचित व्यवस्था करने के निर्देश दिए, ताकि महिला का इलाज हो सके।

About team HNI

Check Also

सरकार का यू टर्न : माना- रामदेव की दवाओं पर बैन यानी गलती से हुई ‘मिस्टेक’!

अब आयुर्वेद विभाग ने हटाई दिव्य फार्मेसी की पांच दवाओं के उत्पादन पर लगाई गई …

Leave a Reply