Friday , September 20 2019
Breaking News
Home / चर्चा में / नीतीश कुमार संघ से निकले और संघ की शाखा में ही पहुंच गए
bihar news

नीतीश कुमार संघ से निकले और संघ की शाखा में ही पहुंच गए

नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के साथ ही बुधवार को बिहार की राजनीति में जैसे भूचाल आ गया. आरजेडी और कांग्रेस के साथ 20 महीने पुराने महागठबंधन से खुद को अलग करते हुए नीतीश ने राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी को बुधवार शाम अपना इस्तीफा सौंप दिया. नीतीश के इस्तीफे की घोषणा के कुछ ही देर बाद बीजेपी ने उन्हें बिना शर्त समर्थन देने की घोषणा भी कर दी. आज नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे और साथ ही बिहार में बीजेपी नेता सुशील मोदी उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. आपको यहां बता रहे हैं कि बिहार में हुए इस राजनीतिक हलचल पर देश की बड़ी पार्टियों के नेताओं ने क्या कहा है.

कांग्रेस के प्रवक्ता दिग्विजय सिंह ने ट्विटर पर लिखा है, ”एक बार फिर से बिहार में राज्यपाल जी ने सरकारिया कमीशन और सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों का उल्लंघन किया है Single largest party RJD को मौक़ा नहीं दिया गया है. BJP का प्रजातंत्र में विश्वास ना पहले था ना अब है. इस कृत्य के लिए धिक्कार है.”

एक और ट्वीट में दिग्विजय सिंह ने कहा, ”नीतीश जी का क़दम निराशाजनक है. क्या महागटबंधन करने के पहले लालू जी के परिवार के बारे में उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी? नितीश जी बिहार की जनता ने महागठबंधन को चुना है भाजपा और भाजपा/मोदी के विरोध में. नैतिकता यह कहती है कि आप पुनः बिहार की जनता का जनादेश लें.”

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने नीतीश और सुशील कुमार मोदी की तस्वीर को पोस्ट करते हुए लिखा,  ”रिश्ता मुबारक. खुश रहो, आबाद रहो और अब साथ रहो.”

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्विटर पर लिखा, ”अवसरवादी राजनीति और नेताओं का कुरूप चेहरा दिख रहा है. सत्ता के लिए समर्थन लेना और सत्ता के लिए धोखा देना’.”

आरजेडी के मनोझ झा ने कहा, ”नीतीश कुमार संघ से निकले और संघ की शाखा में ही पहुंच गए. तेजस्वी एक बहाना था उन्हें तो बीजेपी की गोद में जाना था.”

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्विटर पर लिखा, ”ना ना करते, प्यार तुम्हीं से कर बैठे करना था इंकार मगर इक़रार तुम्हीं से कर बैठे.”

loading...

About team HNI

Check Also

india-china

भारत-चीन के बीच युद्ध का कारण बन सकता है ‘हिंदू राष्ट्रवाद’

सीमा विवाद के मामले में चीनी मीडिया ने भारत के खिलाफ वर्चुअल मोर्चा खोल रखा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *