यूपी की सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) में चाचा-भतीजे के बीच जारी जंग अब अपने चरम पर आ गई है। इसी बीच सपा पार्टी के महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव ने अपने एक बयान से इस लड़ाई में नई जान फूंक दी है। उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का समर्थन करते हुए प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है.

दरअसल, रामगोपाल यादव ने शिवपाल यादव को पार्टी में विवाद की जड़ बताया है। साथ ही शिवपाल की काबिलियत पर भी सवाल खड़ा कर दिया है। हालांकि उन्होंने अपने बयान में कहीं भी शिवपाल का नाम नहीं लिया।

रामगोपाल यादव ने शिवपाल यादव के खिलाफ पुरानी जंग को नया रूप देते हुए जमकर आग उगला। उन्होंने कहा कि पार्टी में अब समझौते का कोई भी संभावना नज़र नहीं आ रही है।

रामगोपाल यादव ने शिवपाल का नाम लिए बगैर कहा कि एक व्यक्ति के कहने पर नेताजी ने सीएम अखिलेश को पद (अध्यक्ष) से हटा दिया। पार्टी में पूरे विवाद की जड़ यही है।

रामगोपाल यादव ने उसकी इतनी हैसियत नहीं कि किसी विधानसभा मे 10 वोट भी डलवा सकें। उन्होंने कहा कि नेताजी 1 जनवरी को पार्टी प्रत्याशियों के संबंध में बैठक करने वाले थे। लेकिन 29 दिसंबर को ही पार्टी प्रत्याशियों की लिस्ट जारी करवा ली गई।