Friday , May 24 2024
Breaking News
Home / चर्चा में / उत्तराखंड में इस बीमारी को लेकर अलर्ट जारी, तेजी से फैल रहा है ये वायरस…

उत्तराखंड में इस बीमारी को लेकर अलर्ट जारी, तेजी से फैल रहा है ये वायरस…

देहरादून। केरल में बर्ड फ्लू के मामले सामने आए हैं, जिसके बाद लोगों में डर व्याप्त हो गया है। बर्ड फ्लू की पुष्टि पाली गई बत्तखों में हुई है। केरल में बतखों में एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस मिलने के बाद अब उत्तराखंड में भी बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट जारी कर दिया गया है। पशुपालन निदेशालय ने सभी जिलों के पशु चिकित्सकों को बर्ड फ्लू की निगरानी के लिए निर्देश दिए हैं।

बता दें पक्षियों की असामान्य मृत्यु होने पर उनके सैंपल भोपाल स्थित हाई सिक्योरिटी एनिमल डिजीज लैब भेजे जाएंगे। वायरस की पुष्टि होने पर संबंधित क्षेत्र के एक किमी की रेंज में मुर्गे-मुर्गियों को मार दिया जाएगा। पशुपालन विभाग प्रदेशभर में स्थित जलाशयों में प्रवासी पक्षियों की भी निगरानी कर रहा है। वहीं पशुपालन विभाग के अनुसार, प्रवासी पक्षियों के संपर्क में आने व उनकी बीट से भी अन्य पक्षियों में वायरस फैल जाता है। केरल राज्य के अलाप्पुझा जिले में बतखों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। अब तक करीब तीन हजार से अधिक पक्षी मर चुके हैं। इस तरह की स्थिति को देखते हुए पशुपालन निदेशक डा. नीरज सिंघल ने प्रदेश भर में अलर्ट जारी किया है।

क्या है बर्ड फ्लू:- एवियन इन्फ्लूएंजा, जिसे ‘बर्ड फ्लू’ भी कहा जाता है, एक बीमारी है जो मुख्य रूप से पक्षियों को प्रभावित करती है और ऑर्थोमेक्सोविरिडे परिवार के एक वायरस के कारण होती है। इसके उपप्रकार के अनुसार, इसे उच्च या निम्न रोगजनकता के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है, जो संक्रमित पक्षियों में विभिन्न लक्षण प्रस्तुत करता है। लो पैथोजेनिक एवियन इन्फ्लुएंजा वायरस (एलपीएआईवी) हल्की बीमारी का कारण बन सकता है, जो अक्सर किसी का ध्यान नहीं जाता या बिना किसी लक्षण के होता है। प्रकार ए के उपप्रकार (एच5 और एच7) के कारण होने वाला अत्यधिक रोगजनक एवियन इन्फ्लुएंजा वायरस (एचपीएआईवी) पक्षियों में गंभीर बीमारी का कारण बनता है जो तेजी से फैल सकता है, जिसके परिणामस्वरूप पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों में मृत्यु दर अधिक होती है।

पक्षियों में फैलने वाले अधिकांश इन्फ्लूएंजा वायरस ज़ूनोटिक नहीं हैं। हालाँकि, कुछ एचपीएआई उपभेदों में मनुष्यों को संक्रमित करने की क्षमता होती है, जो सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए खतरा पैदा करते हैं। मुख्य जोखिम कारक संक्रमित जानवरों या वातावरण और मल से दूषित सतहों का प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष संपर्क है।

लक्षण:- जब एवियन इन्फ्लूएंजा मनुष्यों में फैलता है, तो लोगों में लक्षण हल्के ऊपरी श्वसन पथ के संक्रमण (बुखार और खांसी) से लेकर गंभीर निमोनिया, तीव्र श्वसन संकट सिंड्रोम (सांस लेने में कठिनाई), सदमा और यहां तक ​​कि मृत्यु तक हो सकते हैं।

बर्ड फ्लू का इलाज:- अगर कोई व्यक्ति बर्ड फ्लू से संक्रमित होता है, तो एंटीवायरल दवाओं से उसका इलाज किया जा सकता है। WHO के मुताबिक, संक्रमित व्यक्ति का कम से कम पांच दिन इलाज किया जाना चाहिए, अगर उसकी हालत में सुधार नहीं है तो इलाज को आगे बढ़ाया जा सकता है।

About team HNI

Check Also

ऋषिकेश: एम्स की परीक्षा में नकल कराते दो डॉक्टर समेत पांच गिरफ्तार, ऐसे चल रहा था पूरा ‘खेल’

ऋषिकेश। देहरादून पुलिस ने ऑल इंडिया स्तर पर एम्स द्वारा आयोजित एमडी परीक्षा (इंस्टीट्यूट आफ …

Leave a Reply