Thursday , December 8 2022
Breaking News
Home / उत्तरकाशी / चारधाम यात्रा 2022: आज बंद होंगे गंगोत्री धाम के कपाट, अगले छह महीने यहां होगी पूजा

चारधाम यात्रा 2022: आज बंद होंगे गंगोत्री धाम के कपाट, अगले छह महीने यहां होगी पूजा

उत्तरकाशी। उत्तराखंड की प्रसिद्ध चारधाम यात्रा आज से समापन की ओर बढ़ेगी। गंगोत्री धाम के कपाट आज अन्नकूट पर्व पर शीतकाल के लिए बंद हो जाएंगे। कपाट बंद होने के बाद मां गंगा की उत्सव डोली यात्रा गंगोत्री धाम से उनके शीतकालीन पड़ाव मुखबा के लिए प्रस्थान करेगी। डोली लंका स्थित भैरव मंदिर में विश्राम के बाद अगले दिन यानी गुरुवार को मुखबा पहुंचेगी।
श्री पांच गंगोत्री मंदिर समिति के अध्यक्ष रावल हरीश सेमवाल ने बताया कि विजयदशमी पर्व पर गंगोत्री धाम की कपाट बंदी का समय तय किया गया था जिसके अनुसार गंगोत्री धाम के कपाट बुधवार आज अन्नकूट पर्व पर 12:01 बजे पर शीतकाल के लिए बंद किए जाएंगे। धाम से मां गंगा की उत्सव डोली यात्रा 12:05 बजे अपने शीतकालीन पड़ाव मुखबा (मुखीमठ) के लिए रवाना होगी जो कि एक दिन लंका स्थित भैरव मंदिर में रात्रि विश्राम के बाद अगले दिन मुखबा पहुंचेगी। शीतकाल के छह माह मां गंगा की उत्सव डोली मुखबा स्थित मंदिर में विराजमान रहेगी।
वहीं भैयादूज पर शीतकाल के लिए भगवान केदारनाथ और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद किए जाएंगे। इसके बाद छह माह बाबा केदार की पूजा ओंकारेश्वर मंदिर तो मां यमुना की पूजा खरसाली में होगी। भगवान केदारनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बृहस्पतिवार को सुबह 8:30 बजे बंद किए जाएंगे। बाबा की चल उत्सव विग्रह डोली शीतकालीन गद्दीस्थल के लिए प्रस्थान करते हुए रात्रि प्रवास के लिए रामपुर पहुंचेगी। 28 को डोली विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी में विश्राम करेगी और 29 को डोली ओंकारेश्वर मंदिर में विराजमान होगी।

बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के ईओ रमेश चंद्र तिवारी ने बताया कि कपाट बंद करने की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। बुधवार देर रात विशेष पूजा-अर्चना शुरू हो जाएगी. यमुनोत्री धाम के कपाट गुरुवार को भैयादूज पर दोपहर 12:09 बजे सर्व सिद्धि योग और अभिजीत मुहूर्त में बंद किए जाएंगे। यमुनोत्री से मां यमुना की डोली अपने शीतकालीन पड़ाव खरसाली के लिए प्रस्थान करेगी।
बदरीनाथ धाम के कपाट मीन लग्न में 19 नवंबर को दोपहर 3:35 बजे शीतकाल के लिए बंद किए जाएंगे। 20 नवंबर को आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी, कुबेर और उद्धव की उत्सव डोली धाम से अपने शीतकालीन प्रवास स्थल पांडुकेश्वर के लिए प्रस्थान करेगी। इसके साथ ही चारधाम यात्रा 2022 का समापन हो जाएगा। फिर अगले साल चारधाम के कपाट खुलेंगे।

About team HNI

Check Also

सरकार का यू टर्न : माना- रामदेव की दवाओं पर बैन यानी गलती से हुई ‘मिस्टेक’!

अब आयुर्वेद विभाग ने हटाई दिव्य फार्मेसी की पांच दवाओं के उत्पादन पर लगाई गई …

Leave a Reply