Monday , August 2 2021
Breaking News
Home / अंतरराष्ट्रीय / अब धोखेबाज चीन ने तक तैनात किए फाइटर जेट!

अब धोखेबाज चीन ने तक तैनात किए फाइटर जेट!

बातों से नहीं मानेगा लातों का भूत

  • चीन ने भारत से लगी अपनी पूरी सीमा पर लगाये फाइटर जेट, बमवर्षक व‍िमान और लड़ाकू हेल‍ीकॉप्‍टर
  • लद्दाख से लेकर अरुणाचल प्रदेश की सीमा से लगे एयरबेस पर तैनात क‍िए गए हैं ये फाइटर जेट
  • चीन की सेना ने पेंगांग सो झील पर भारतीय सैनिकों को रोकने के लिए अपनी कार्रवाई तेज की
  • दोनों ही देशों में तनाव को कम करने के लिए लद्दाख में एक बार फ‍िर विदेश मंत्रियों की हो रही वार्ता

पेइचिंग। लेह में भारत के मिग-29 और लड़ाकू हेलीकॉप्‍टर तैनात करने के बाद चीन ने भी लद्दाख से सटे अपने दो एयरबेस होटान, नग्‍यारी, शिगात्‍से (सिक्किम के पास) और नयिंगची (अरुणाचल प्रदेश के पास) में बडे़ पैमाने पर फाइटर जेट, बमवर्षक विमान और हेलीकॉप्‍टर तैनात कर दिए हैं। इसके साथ ही चीन की सेना ने पेंगांग सो झील पर फिंगर 4 के आगे भारतीय सैनिकों को गश्‍त से रोकने के लिए अपनी आक्रामक कार्रवाई और न‍िगरानी को बढ़ा दिया है।
द ट्रिब्‍यून की रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने भारत से लगी अपनी पूरी सीमा पर स्थित हवाई ठिकानों होटान, नग्‍यारी, शिगात्‍से और नयिंगची में अतिरिक्‍त फाइटर जेट, बॉम्‍बर और लड़ाकू हेलीकॉप्‍टरों को तैनात किया है। चीनी सेना ने अरुणाचल की सीमा पर भी अपनी गतिविधि को तेज कर दिया है। पेंगांग सो झील पर जहां चीन की सेना एलएसी को बदलना चाहती है, वहीं चीनी सेना ने गोगरा हॉट स्प्रिंग में भी बड़े पैमाने पर सैनिकों और हथियार तैनात किए हैं।
चीन की ताजा हरकत से भारत के देपसांग, मुर्गो, गलवान, हॉट स्प्रिंग, कोयूल, फूकचे और देमचोक को खतरा का काफी बढ़ गया है। भारत ने भी चीन की इस चुनौती से निपटने के लिए अपनी तैयारी काफी बढ़ा दी है। बताया जा रहा है कि दोनों ही सेनाओं और दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच आज सोमवार को बैठक हो रही है। इससे पहले 6 जून को इसी तरह की बैठक हुई थी।
इससे पहले 15 जून की रात को भारत और चीन के जवानों के बीच गलवान घाटी में भीषण झड़प हुई थी। इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे और चीन के भी 40 से ज्‍यादा जवान हताहत हुए थे। इसके बाद दोनों ही देशों के बीच तनाव काफी बढ़ गया है। चीनी चुनौती से निपटने के लिए भारत ने नियंत्रण रेखा से सटे इलाकों में फाइटर जेट, लड़ाकू विमान और टैंक तैनात किए हैं।
बताया जा रहा है कि चीन ने ऊंचाईं वाले इलाके में उड़ान भरने में अनुकूल लड़ाकू विमान जे-11 और जे 16 एस को लद्दाख से सटे इलाकों में तैनात किया है। चीन का शेययांग जे 11 रूस की सुखोई एसयू 27 का चीनी वर्जन है। यह फाइटर प्लेन एयर सुपीरियर होने के साथ दूर तक हमला करने में सक्षम है। इसमें दो इंजन लगे होते हैं। जिससे जेट को ज्यादा पॉवर मिलती है। चीन में निर्मित इस विमान को केवल चीनी एयर फोर्स ही ऑपरेट करती है। यह जेट 33000 किलोग्राम तक के वजन के साथ उड़ान भर सकता है। यह विमान एक बार में 1500 किलोमीटर की दूरी तक मार कर सकता है।
गत दिनों वायु सेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने गलवान घाटी में हिंसक झड़प के बाद चीन से बढ़े तनाव के बीच तैयारियों का जायजा लेने के लिए लेह और श्रीनगर का दौरा किया था। सैन्य सूत्रों ने इस बारे में बताया है। वायु सेना ने चीन से लगी 3500 किलोमीटर की सीमा के पास अपने सभी अग्रिम बेस को हाई अलर्ट पर रखा है और झड़प के बाद तैयारियों के तहत लड़ाकू विमान और अन्य जंगी हेलिकॉप्टर जैसे अतिरिक्त संसाधनों को तैनात किया है। 

About team HNI

Check Also

दून विवि में हुई अंबेडकर चेयर की स्थापना

राज्यपाल, मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री ने कार्यक्रम में किया प्रतिभाग देहरादून। आज शुक्रवार को राज्यपाल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *