Saturday , July 20 2024
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / नामांकन के बाद बोले त्रिवेंद्र लक्ष्य 400 पार, फिर एक बार मोदी सरकार

नामांकन के बाद बोले त्रिवेंद्र लक्ष्य 400 पार, फिर एक बार मोदी सरकार

  • गंगा पूजन कर त्रिवेंद्र ने किया ऑफलाइन नामांकन
  • 22 मार्च को भाजपा प्रत्याशी ने किया था ऑनलाइन नामांकन

हरिद्वार। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और हरिद्वार लोकसभा के प्रत्याशी त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंगलवार को रोशनाबाद कलेक्ट्रेट में पहुंच कर ऑफलाइन नामांकन कर दिया। इससे पहले, त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया के नारे 22 मार्च को ऑनलाइन नामांकन भी किया था।

बता दें कि आज सुबह हर की पैड़ी ब्रह्मकुंड पहुंच कर त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सबसे पहले परिवार सहित मां गंगा का पूजन किया और आशीर्वाद लिया। इसके बाद, उन्होंने भाजपा के चुनिंदा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ रोशनाबाद कलेक्ट्रेट पहुंच कर सादगी से ऑफ लाइन नामांकन भी कर दिया। जिला निर्वाचन अधिकारी के समक्ष त्रिवेंद्र सिंह रावत ने चार सैट में नामांकन पत्र दाखिल किया। इससे पहले, 22 मार्च को ऑनलाइन नामांकन करने के बाद रावत ने कहा था कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया के नारे से प्रभावित होकर ऑनलाइन नामांकन किया। उन्होंने तब ये जानकारी भी दी थी कि 26 मार्च को सादगी के साथ ऑफलाइन नामांकन भी किया जाएगा।

आज नामांकन के दौरान कैबिनेट मंत्री प्रेम चंद्र अग्रवाल, राज्य सभा सदस्य कल्पना सैनी, विधायक मदन कौशिक, बृजभूषण गैरोला, आदेश चौहान, प्रदीप बत्रा पूर्व विधायक सुरेश राठौड़, संजय गुप्ता, कुंवर प्रणव चैंपियन, स्वामी यतीस्वरानंद, वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सादाब शम्स, भाजपा नेत्री रानी देवयानी आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

रावतों की नहीं, विचारधारा की है ये लड़ाई…

पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा प्रत्याशी त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है कि यह लड़ाई विचारधारा की लड़ाई है, ये रावतोंं की लड़ाई नहीं है। मैदान में भाजपा और कांग्रेस है। एक तरफ भाजपा की विचारधारा है, जो देश की मिट्टी से निकली हुई है और दूसरी विचारधारा कांग्रेस की है, जो पश्चिम से निकली है। सब जानते हैं कि कांग्रेस के संस्थापक अंग्रेज थे। त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि पीएम मोदी को तीसरी बार प्रधानमंत्री बनाने का देश संकल्प ले चुकी है। चार जून को पता लग जाएगा कि कौन दीपावली मनाएगा और कौन होली।

About team HNI

Check Also

‘बेटा मेरा शहीद हुआ, पर सब कुछ बहू लेकर चली गई’, कैप्टन अंशुमान के माता-पिता का छलका दर्द

नई दिल्ली। सियाचिन में पिछले साल 19 जुलाई को साथियों को बचाते हुए कैप्टन अंशुमान …

Leave a Reply