Thursday , June 17 2021
Breaking News
Home / चर्चा में / लद्दाख में चरम पर तनाव : अब पैंगोंग झील के पास भारत-चीन में होगी आरपार!
फ़ाइल फोटो

लद्दाख में चरम पर तनाव : अब पैंगोंग झील के पास भारत-चीन में होगी आरपार!

…और इस बार 15 जून नहीं दोहरायेगा भारत

  • लद्दाख में भारत-चीन के बीच विवाद अभी और बढ़ने के आसार
  • एक्सपर्ट मानते हैं कि मुद्दा नहीं सुलझा तो फिर लड़ाई की आशंका
  • इस बार हालात बिगड़े तो लड़ाई डंडे, धक्का मुक्की से आगे जाएगी
  • बातचीत जारी, लेकिन चीन की  गुस्ताखी का जवाब देने को सेना तैयार  

नई दिल्ली। फिलहाल लद्दाख की गलवान घाटी में हालात को जल्द काबू नहीं किया गया तो स्थिति और चिंताजनक हो सकती है। ऐसे में युद्ध तक की नौबत आने से इनकार नहीं किया जा सकता। रक्षा मामलों से जुड़े एक्सपर्ट मानते हैं कि गलवान घाटी में 20 भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद स्थिति काफी तनावपूर्ण है।
फिलहाल सैनिकों के बीच पैंगोंग झील पर तनाव की आशंका ज्यादा है। वहां चीनी सेना ने 8 किमी इलाके को ब्लॉक कर दिया है। गौरतलब है कि गलवान से पहले यहां भी सैनिकों की झड़प हुई थी, लेकिन अब जवानों के शहीद होने के बाद यह झड़प धक्का मुक्की, पत्थरबाजी और डंडों तक शायद ही सीमित रहे। हालात अभी ऐसे हैं कि कभी भी चीनी और भारतीय सेना आमने-सामने आ सकती है, ऐसे में जल्द से जल्द विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाना जरूरी हो जाता है। भारत बातचीत को तैयार है, लेकिन चीन के पिछले धोखे को याद रखते हुए सेना ने तैयारियों में भी कोई कमी नहीं छोड़ी है।
पिछले दिनों गलवान में जो कुछ हुआ ऐसा 45 सालों बाद देखा गया। इतने सालों में वहां कोई गोली नहीं चली थी और न ही किसी जवान की जान गई थी। ऐसा दोनों देशों के बीच संधि की वजह से था जिसमें तय किया गया था कि दोनों ही देशों के जवान बॉर्डर (एलएसी) पर हथियारों का इस्तेमाल नहीं करेंगे। इस हिंसक झड़प में चीन के जवानों ने भी जान गंवाई है। वहीं 20 साथियों को खोने का गम भारतीय जवानों को भी है। ऐसे में अब पिछली संधियों का पालन कर पाना मुश्किल हो सकता है।
इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए पूर्व आर्मी चीफ जनरल वीपी मलिक ने कहा कि अगर जल्द से जल्द बातचीत से मुद्दा नहीं सुलझा तो ऐसी हिंसक झड़प बढ़ जाएंगी। मलिक कहते हैं, ‘जब सैनिक आमने-सामने हों, टेंशन और गुस्से का माहौल हो तो छोटी सी घटना भी बड़ा रूप ले सकती है।’ गलवान घाटी में भारतीय सेना भी पूरी तरह सतर्क है। थल और वायु सेना दोनों हाई-अलर्ट पर हैं। चीन की किसी भी गुस्ताखी का जवाब देने की सेना को मोदी सरकार ने पूरी छूट दी हुई है।

loading...

About team HNI

Check Also

शाबाश! निहारिका 1000 सैल्यूट

कोरोना संक्रमित ससुर को पीठ पर उठाकर दो किमी अस्पताल ले गईअपनों को कंधा न …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *