Thursday , June 17 2021
Breaking News
Home / चर्चा में / भारत-नेपाल का रिश्ता ‘रोटी-बेटी’ का, इसे कोई ताकत नहीं तोड़ सकती : राजनाथ

भारत-नेपाल का रिश्ता ‘रोटी-बेटी’ का, इसे कोई ताकत नहीं तोड़ सकती : राजनाथ

तल्ख रिश्ते बनेंगे बेहतर

  • नेपाल ने नए नक्‍शे में भारतीय इलाकों को किया है शामिल, संसद से भी किया पास
  • भारत ने लिपुलेख तक एक लिंक रोड बनाई तो चिढ़ गया नेपाल, दिखा रहा तेवर
  • भारत कर रहा बातचीत की पेशकश लेकिन कम नहीं हो रही नेपाल की तल्‍खी  
  • रक्षा मंत्री ने कहा- नेपाल को गलतफहमी, बातचीत के जरिए सुलझाएंगे

नई दिल्‍ली। नेपाल के साथ ताजा सीमा विवाद पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बातचीत की पैरवी की है। उन्होंने आज सोमवार को कहा कि नेपाल को कुछ ‘गलतफहमी’ है जिसे बातचीत से सुलझाया जाएगा। वह उत्‍तराखंड के भाजपा कार्यकर्ताओं को ‘जन संवाद’ कार्यक्रम के तहत संबोधित कर रहे थे।
रक्षा मंत्री ने कहा कि ‘भारत-नेपाल के बीच असाधारण संबंध हैं, हमारे बीच रोटी-बेटी का रिश्ता है और दुनिया की कोई ताकत इसे तोड़ नहीं सकती।’ सिंह ने कहा, “पहले मानसरोवर जाने वाले यात्री सिक्किम के नाथुला का रूट लेकर जाते थे, जिससे अधिक समय लगता था। बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन (बीआरओ) ने लिपुलेख तक एक लिंक रोड का निर्माण किया, जिससे मानसरोवर जाने के लिए एक नया रास्ता खुल गया। हमारे पड़ोसी देश नेपाल में इस सड़क को लेकर कुछ गलतफहमियां पैदा हुई हैं। जिसे हम बातचीत के जरिए सुलझाएंगे। लिपुलेख में बनाई गई सड़क एकदम भारतीय सीमा के भीतर है।”
राजनाथ ने नेपाल को भारत के साथ उसकी याद दिलाने की कोशिश की। उन्‍होंने कहा, “नेपाल के साथ हमारे केवल सामाजिक, भौगोलिक, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक रिश्ते ही नहीं बल्कि आध्यात्मिक रिश्ते भी हैं। भारत-नेपाल का रिश्ता ‘रोटी-बेटी’ का है। दुनिया की कोई भी ताकत इस रिश्ते को तोड़ नहीं सकती। हमारे यहां गोरखा रेजिमेंट ने समय समय पर अपने शौर्य का परिचय दिया है। उस रेजिमेंट का उद्घोष है कि “जय महाकाली आयो री गोरखाली”। महाकाली तो कोलकाता में, कामाख्या में और विंध्याचल में सब जगह विद्यमान हैं और महाकाली के भक्त तो उत्तराखंड के गांव-गांव में मिल जाते हैं तो कैसे भारत और नेपाल का रिश्ता यह टूट सकता है। इसलिए धारचूला के आगे कितनी भी तारें लगा दी जाएं, इन संबंधों को बहनों भाइयों काटा नहीं जा सकता।”
उन्होंने नेपाल के नागरिकों को विश्‍वास दिलाते हुए कहा, “मैं विश्वास के साथ कहना चाहता हूं कि भारतीयों के मन में कभी भी नेपाल को लेकर किसी भी प्रकार की कटुता पैदा हो ही नहीं सकती है। इतना गहरा संबंध हमारे साथ नेपाल का है। हम मिल बैठकर इन सब समस्याओं का समाधान करेंगे।”
पिछले कुछ दिनों से नेपाल के तेवरों में चीन का असर साफ देखा जा रहा है। पहले उसने लिपुलेख लिंक रोड पर आपत्ति जताई। फिर अपने देश का नया नक्‍शा जारी करते हुए भारत के कई इलाकों को अपने सीमा में शामिल कर लिया। उसके बाद बिहार से लगे बॉर्डर पर अचानक नेपाली सशस्‍त्र पुलिस ने गोलियां बरसा दीं। हमले में एक भारतीय नागरिक की मौत हो गई और दो घायल हो गए।
राजनाथ सिंह की वर्चुअल रैली में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत और वरिष्ठ पदाधिकारी मौजूद रहे। यह रैली देहरादून आधारित और गढ़वाल संभाग के लिए है, लेकिन इसे पूरे उत्तराखंड व देश विदेश में भी सुना व देखा गया।

loading...

About team HNI

Check Also

शाबाश! निहारिका 1000 सैल्यूट

कोरोना संक्रमित ससुर को पीठ पर उठाकर दो किमी अस्पताल ले गईअपनों को कंधा न …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *