अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता व पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने विधानसभा चुनाव में पीएम नरेन्द्र मोदी व केंद्रीय मंत्रियों की सक्रियता पर सवाल उठाया कि क्या मोदी उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बनेंगे?उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा को प्रदेश नेतृत्व पर भरोसा नहीं रहा, इसलिए वह पीएम को आगे रखकर चुनाव लड़ रही है। उन्होंने संसद में पीएम की भूकंप को लेकर की गई टिप्पणी को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया।

तिवारी मंगलवार को कांग्रेस भवन में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भाजपा प्रदेश नेतृत्व की जगह राष्ट्रीय नेतृत्व आगे करके चुनाव लड़ रही है। यही भूल उसने बिहार में की थी। अब उत्तराखंड में भी वह इस भूल का खामियाजा भुगतेगी।

कहा कि चूंकि चुनाव में समूची केंद्र सरकार उतर आई है, इसलिए उसका 31 महीने के कार्यकाल का मूल्यांकन भी लाजिमी हो गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि साम्प्रदायिक सौहार्द के मामले में केंद्र पूरी तरह से विफल रहा। राजनीतिक स्थिरता की कसौटी पर उसकी नाकामी उत्तराखंड में दिखी।

उन्होंने पीएम मोदी पर अरूणाचल और उत्तराखंड में संघीय ढांचे आघात करने का आरोप लगाया। उन्होंने नोटबंदी और आंतरिक सुरक्षा के मुद्दे पर भी मोदी व केंद्र सरकार की आलोचना की। उन्होंने कहा कि पांच राज्यों के चुनाव तय करेंगे कि देश किस ओर जाएगा।