सब गोलमाल है

  • मालसी डीयर पार्क से आगे दून मसूरी रोड से पुरकुल मार्ग पर टौंस नदी में रातभर होता है अवैध खनन
  • अवैध खनन के चलते टौंस नदी के काजवे पर बने लोहे के पुल और उसके दोनों ओर सड़क का हुआ कटाव

देहरादून। राजधानी में वन और खनन विभाग की नाक के नीचे टौंस नदी में अवैध खनन का कारोबार धड़ल्ले से जारी है। इसका नजारा आपको देखना है तो एक बार मालसी डीयर पार्क से आगे देहरादून मसूरी रोड से पुरकुल मार्ग पर टौंस नदी के काजवे पर पहुंच जाइये तो वहां लोहे के पुल के पास लगे अवैध खनन सामग्री के ढेर खुद ब खुद इन दोनों ‘भारी भरकम’ विभागों की सुस्ती का राज खोलकर आपके सामने रख देंगे।
ग्रामीणों के अनुसार यहां रातभर डंफर, ट्रैक्टर ट्रॉली और अन्य दहाड़ते रहते हैं और अवैध खनन में जुटे रहते हैं, लेकिन उनको देखने या रोकने की मजाल किसी विभाग या अधिकारी में नहीं है। आजकल अवैध खनन के चलते टौंस नदी के काजवे पर बने लोहे के पुल और उसके दोनों ओर सड़क का भू कटाव जारी है। लगभग दो मीटर सड़क टौंस नदी के बहाव की दिशा बदल जाने से नदी में समा चुकी है और हर रोज धीरे धीरे सड़क का कटाव हो रहा है।

आप देख सकते हैं कि अवैध खनन माफिया ने काजवे पर लोहे के पुल के दायीं ओर खनन सामग्री का ढेर लगा दिया है। जिससे नदी के बहाव की दिशा बदल गई है और अब हालात यह है कि टौंस नदी लोहे के पुल के नीचे से न बहकर उससे हटकर बह रही है और काजवे के पास सड़क भूस्खलन और पानी की तेज धार की भेंट चढ़ती जा रही है।
अगर यही हाल रहा तो थोड़े ही दिनों में पूरी सड़क भूस्खलन की भेंट चढ़ जाएगी और दर्जनों गांवों का यह महत्वपूर्ण संपर्क मार्ग बंद होना तय है। शायद इसके बाद दोनों विभाग अपनी कुंभकर्णी नींद से जाग जाएं। तब तक आपको इंतजार करना ही पड़ेगा।