देहरादून। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक व वन मंत्री डाॅ. हरक सिंह रावत ने कोटद्वार नगर निगम क्षेत्र के अन्तर्गत कूड़ा निस्तारण के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ बैठक में कहा कि कोटद्वार में साॅलिड वेस्ट मैंनेजमेंट का विशेष माॅडल लागू होगा। इसे पर्यावरण प्रदूषण बोर्ड का निदेशालय देखेगा। यह माॅडल छत्तीसगढ़ माॅडल पर आधारित होगा।

उन्होंने कहा कि इसके लिये भूमि सिडकुल से ली जायेगी। एमएनए कोटद्वार की अध्यक्षता में एक कमेटी बनायी गयी है, जिसमें प्रदूषण बोर्ड का एक अधिकारी और शहरी विकास विभाग का एक अधिकारी रहेंगे जो प्रतिदिन के आधार पर इस माॅडल की मानिटरिंग करेंगे। साॅलिड वेस्ट मैंनेजमेंट के तहत तीन माॅडल अपनाये जायेंगे, रुड़की में वेस्ट टू एनर्जी माॅडल, हरिद्वार में बायोगैस माॅडल और कोटद्वार में छत्तीसगढ़ माॅडल है। इसके बाद इसी आधार पर पूरे राज्य में साॅलिड वेस्ट मैनेजमेंट का कार्य किया जायेगा। इस अवसर पर सचिव शहरी विकास शैलेश बगोली, निदेशक शहरी विकास विनोद कुमार सुमन, निदेशक पर्यावरण बोर्ड एसपी सुबुद्धि आदि मौजूद थे।