Saturday , October 16 2021
Breaking News
Home / जम्मू कश्मीर / 4 महीने पहले हुई थी शादी, किसानी झंडा लेकर गए थे बारात में

4 महीने पहले हुई थी शादी, किसानी झंडा लेकर गए थे बारात में

जालंधर
सोमवार की सुबह देश के लिए एक बुरी खबर लेकर आई जब जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में मातृभूमि की रक्षा में जुटे हमारे 5 जवान शहीद हो गए। पुंछ जिले में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में एक जूनियर कमीशंड अधिकारी (JCO) के अलावा 4 अन्य जवान शहीद हुए। इनमें जसविंदर सिंह, मनदीप सिंह, सरज सिंह, गज्जन सिंह और वैशाख एच शामिल हैं। सेना ने भी ताबड़तोड़ अभियान चलाकर 24 घंटे के भीतर ही इन जवानों की शहादत का बदला ले लिया है। सेना ने कश्मीर में बीते 24 घंटे के अंदर 3 मुठभेड़ को अंजाम दिया और कुल 5 आतंकियों को ढेर कर दिया है।

4 महीने पहले हुई थी शादी
आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए गज्जन सिंह पंजाब के रुपनगर में परचंदा गांव के रहने वाले थे। गज्‍जन सिंह सेना की 23 सिख रेजिमेंट में तैनात थे। अभी 4 महीने पहले ही तो उनकी शादी हुई थी। उनकी पत्‍नी का नाम हरप्रीत कौर है। बताया जा रहा है कि कल यानी 13 अक्टूबर को वह 10 दिनों की छुट्टी पर अपने गांव आने वाले थे, लेकिन अफसोस कि अब उनके घरवालों का यह इंतजार कभी खत्म नहीं हो पाएगा।

शादी में किसानी झंडा लेकर गए थे गज्जन सिंह
4 महीने पहले जब गज्जन सिंह की शादी हुई थी तो वह अपनी बारात में किसानी झंडा लेकर गए थे। लोग बताते हैं कि गज्जन अपनी दुलहन हरप्रीत कौर को ट्रैक्टर पर लेकर आए थे। गज्जन सिंह अपने 4 भाइयों में सबसे छोटे थे। उनके तीनों बड़े भाई खेती किसानी का ही काम करते हैं।

ये भी पढ़ें…

लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों के ‘अंतिम अरदास’ में शामिल होंगी प्रियंका गांधी

हमसे फेसबुक में जुड़ने के लिए यहाँ click करे

आज घर पहुंचेगा गज्जन का पार्थिव शरीर
जानकारी के मुताबिक, शहीद गज्जन सिंह का पार्थिव शरीर आज उनके गांव परचंदा में पहुंचेगा। उनकी माता को अभी गज्जन की शहादत के बारे में बताया नहीं गया है क्योंकि वह बीमार रहती हैं। मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले गज्जन सिंह और बाकी के अन्य 4 जवानों को यह देश कभी भूल नहीं पाएगा। का पार्थिव शरीर आज उनके गांव परचंदा में पहुंचेगा। उनकी माता को अभी गज्जन की शहादत के बारे में बताया नहीं गया है क्योंकि वह बीमार रहती हैं। मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले गज्जन सिंह और बाकी के अन्य 4 जवानों को यह देश कभी भूल नहीं पाएगा।

About team HNI

Check Also

CJM कोर्ट में नहीं चली आशीष मिश्रा के वकील की दलील

लखीमपुर खीरी. लखीमपुर कांड के मुख्‍य आरोपी और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा (Ajay Mishra Teni) के …

Leave a Reply