कोरोना इफेक्ट

  • अकादमिक परिषद ने लगाई इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश पर मुहर
  • इस बाबत यूटीयू के कुलपति ने की अपर मुख्य सचिव तकनीकी शिक्षा से वार्ता
  • शासन से हरी झंडी मिलने के बाद एडमिशन कमेटी लेगी फैसला

देहरादून। प्रदेश के इंजीनियरिंग कॉलेजों में इस साल 12वीं के अंकों की मेरिट के आधार पर दाखिला कराने की तैयारी है। इस संबंध में उत्तराखंड तकनीकी विवि के कुलपति प्रो. नरेंद्र एस चौधरी ने अपर मुख्य सचिव तकनीकी शिक्षा राधा रतूड़ी से वार्ता की है। मामले में अब एडमिशन कमेटी की ओर से फैसला लिया जाएगा।
गौरतलब है कि प्रत्येक वर्ष उत्तराखंड तकनीकी विवि की ओर से जेईई मेन के स्कोर के आधार पर काउंसिलिंग कर इंजीनियरिंग की सीटों पर दाखिला किया जाता है। इस साल कोरोना के चलते अभी तक जेईई मेन-2 का आयोजन नहीं हो पाया है। इसलिए विवि के स्तर से 12वीं के अंकों की मेरिट से दाखिले का प्रस्ताव तैयार किया गया है।
इस पर विवि की अकादमिक परिषद की ओर से मुहर लगाई जा चुकी है। अब इसका प्रस्ताव कुलपति प्रो. नरेंद्र एस चौधरी ने अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी को दिया है। प्रो. चौधरी ने बताया कि शासन से हरी झंडी मिलते ही एडमिशन कमेटी की बैठक होगी। इसके बाद जल्द ही दाखिले शुरू कर दिए जाएंगे।
उधर उत्तराखंड तकनीकी विवि के पीएचडी करने वाले छात्रों का इंतजार खत्म होने वाला है। तकनीकी विवि की अकादमिक परिषद की बैठक में पीएचडी को लेकर अहम फैसला लिया गया है। विवि के कुलपति प्रो. नरेंद्र एस चौधरी ने बताया कि पीएचडी का अंतिम प्रेजेंटेशन ऑनलाइन कराने की तैयारी है। ऑनलाइन प्रेजेंटेशन होने के बाद संबंधित छात्र और उसके पीएचडी सुपरवाइजर को सहयोग करना अनिवार्य होगा।