• कहीं पुश्ता ढहा तो कहीं नाले में बह गई कार, चालक ने कार से कूदकर बचाई जान

देहरादून। शहर में रविवार रात से ऐसे टूट के बरसे बदरा कि शहर पानी-पानी हो गया। यहां कहीं पुश्ता ढह गया तो कहीं कार नाले में बह गई। घरों में पानी घुस गया। रिस्पना नदी का जलस्तर बढ़ गया।
आज सोमवार सुबह से दोपहर तक भी बरसात रुक-रुक कर जारी रही। जिससे शहर के कई इलाकों में जलभराव हो गया। देहरादून के बल्लूपुर रोड स्थित मित्रलोक कॉलोनी, कौलागढ़, अंबेडकर मार्ग, ग्राम रजवाड़ी में जलभराव हो गया है। मित्रलोक कॉलोनी में पानी भरने से लोगों में रोष है। कौलागढ़ के वार्ड 31 में बरसात का पानी लोगों के घरों में घुस गया। वहीं अंबेडकर मार्ग में पानी की निकासी के लिए एक भी पक्की नाली नहीं है। जिस कारण घरों में पानी घुस गया। किसी तरह खाली प्लॉट की दीवार तोड़कर घरों का पानी निकाला गया। ग्राम रजवाड़ी में भी घरों में बरसात का पानी घुस गया।
संगम विहार जीएमएस रोड पर भारी बारिश से पुश्ता ढह गया। जिसमें कई वाहन दब गए। गोविंदगढ़ टीचर्स कॉलोनी में भी जलभराव हो गया है। संतला देवी मार्ग मलबा आने से बंद हो गया है। वहीं सहस्रधारा रोड पर आईटी पार्क के पास एक स्विफ्ट कार नाले में बह गई। वक्त रहते कार चालक कार से निकल गया। देहरादून और ऊपरी पहाड़ी इलाकों में हुई बारिश से देहरादून में नदी नालों में भी जलस्तर बढ़ गया है।
तेज बारिश से दीपनगर के पास रिस्पना नदी का जलस्तर बढ़ गया है। जिससे सड़क के दूसरी ओर जाने वाले लोग आवाजाही नहीं कर पा रहे हैं। यमुना कॉलोनी चौराहे पर दून स्कूल की दीवार गिर गई, लोग बाल-बाल बचे। उधर पहाड़ों में हो रही भारी बारिश के चलते मसूरी के पास पर्यटन स्थल कैंपटी फॉल व यमुना नदी का जलस्तर बढ़ने से स्थानीय लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। कैंपटी फॉल में जलस्तर बढ़ने से आसपास की दुकानों में पानी भर गया। कई दुकानों में रखा सामान क्षतिग्रस्त हो गया।
मसूरी कैंपटी रोड पर सांझा दरबार के पास भारी बारिश से पेड़ गिरने के बाद रोड बंद हो गई है। वहीं मसूरी में रविवार देर रात हो रही बारिश से जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। यहां भूस्खलन से मसूरी कोलूखेत और जेपी बैंड के पास रास्ता बंद हो गया है। लगातार हो रही बारिश के कारण मार्ग खोलने में परेशानी हो रही है। लोक निर्माण विभाग की जेसीबी द्वारा मार्ग खोलने के प्रयास किए जा रहे हैं। डोईवाला विधानसभा में नदी का जलस्तर बढ़ने से जानवर फंस गए।
देर रात से हो रही भारी बारिश से नदियों का जल स्तर बढ़ गया है। जिसके बाद डोईवाला की सुसवा सोंग और जाखन नदी में बाढ़ जैसे हालात हो गए। सुसवा नदी में आई बाढ़ से तमाम गांव प्रभावित हो गए तो वहीं तमाम जानवर भी नदी के पानी में फंस गए। नागल, बुलनदा वाला, सीमलास, बल्लावाला, बड़कली, खट्टा पानी में बाढ़ ने काफी नुकसान किया है। बाढ़ से गांव के खेत खलिहानों को भी बहने का खतरा बढ़ गया है।
सहसपुर क्षेत्र में ग्राम पंचायत कोटडा में संतोष नदी के किनारे 15-20 परिवार रहते हैं। सोमवार को नदी का जलस्तर बढ़ने से तीन-चार घरों को नुकसान पहुंचा है।
सहसपुर थाना क्षेत्र में ही सभावाला असान नदी के पास एक आदमी भैंसा बुग्गी सहित नदी में फंस गया। पुलिस और एनडीआरएफ की टीम ने ग्रामीणों की मदद से उसको नदी से निकाला।
पछवादून में बारिश के बीच कालसी चकराता मोटर मार्ग पर जजरेड के पास एक छोटा हाथी मलबे में दब गया। जेसीबी की मदद से मार्ग खोला जा रहा है। डाक पत्थर बैराज से लगातार यमुना नदी का पानी छोड़ा जा रहा है। जिससे ढलीपुर और ढकरानी पावर हाउस में बिजली उत्पादन ठप हो गया है।