Thursday , October 6 2022
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / यूकेएसएसएससी: आयोग की गलती भुगत रहे पुलिस वाले, नई भर्तियां भी अधर में!

यूकेएसएसएससी: आयोग की गलती भुगत रहे पुलिस वाले, नई भर्तियां भी अधर में!

देहरादून। काफी समय से उत्तराखंड अधीनस्थ चयन सेवा आयोग (यूकेएसएसएससी) अपनी गलतियों, पेपर लीक जैसे विवादों के कारण चर्चाओं में है। अब आयोग की गलती का खमियाजा उन पुलिस रैंकर्स अभ्यर्थियों को भी डेढ़ साल से भुगतना पड़ रहा है जिनके परीक्षा परिणाम अब तक घोषित नहीं किये गये हैं।
दरअसल, उत्तराखंड पुलिस विभाग में कॉन्स्टेबल से दारोगा बनने के लिए जनवरी 2021 में आयोग ने परीक्षा आयोजित की थी। मगर डेढ़ साल बीत जाने के बावजूद आयोग ने इसके परिणाम घोषित नहीं किये हैं। इस मामले में कुछ अभ्यर्थियों ने परीक्षा पेपर को लेकर हाईकोर्ट में याचिका लगाकर चुनौती दी थी। जिसके बाद न्यायालय ने परीक्षा फल रोकने के आदेश जरूर दिए थे, लेकिन अब यह मामला काफी दिनों पहले हाईकोर्ट से रोक हटते ही निस्तारित हो चुका है. इसके बावजूद उत्तराखंड अधीनस्थ चयन सेवा आयोग पुलिस रैंकर्स भर्ती लिखित परीक्षा का परिणाम घोषित नहीं कर रहा है. आयोग के सचिव संतोष बडोनी के मुताबिक जल्द ही इस मामले में बोर्ड की बैठक आयोजित की जाएगी। जिसके बाद हाईकोर्ट के आदेश का अध्ययन किया जाएगा। उसके बाद ही इस पर कोई निर्णय लिया जा सकता है.
पुलिस विभाग में रैंकर भर्ती प्रक्रिया फरवरी 2021 में शुरू की गई थी. लिखित परीक्षा की जिम्मेदारी अधीनस्थ चयन सेवा आयोग को दी गई। फरवरी 2021 को कांस्टेबल से हेड कांस्टेबल और हेड कांस्टेबल से सब इंस्पेक्टर (दारोगा) पदों के लिए परीक्षा आयोजित कराई गई. परीक्षा में लगभग 10,500 पुलिस अभ्यर्थियों ने हिस्सा लिया. परीक्षा परिणाम मार्च में घोषित किए गए। इसमें मेरिट के आधार पर 1350 अभ्यर्थियों ने हेड कांस्टेबल के लिए और 650 अभ्यर्थियों ने दारोगा पद के लिए परीक्षा पास कर मेरिट में जगह बनाई। इस प्रक्रिया के बाद पुलिस अभ्यर्थियों की शारीरिक दक्षता परीक्षा अप्रैल 2021 के अंतिम माह में आयोजित हुई।

यह भी पढ़ें: आखिरकार यूकेएसएसएससी के चेयरमैन राजू ने दे ही दिया इस्तीफा

पुलिस रैंकर भर्ती में 394 पद हेड कॉन्स्टेबल (सिविल पुलिस), 61 पद दारोगा (सिविल पुलिस), 77 पद प्लाटून कमांडर के लिए (सब इंस्पेक्टर, पीएसी), 250 हेड कांस्टेबल पद (पीएसी) और 215 हेड कांस्टेबल पद सशस्त्र पुलिस रिक्त पदों पर कराई गई थी। वहीं इस पुलिस रैंकर परीक्षा परिणाम में 5 अभ्यर्थियों ने आयोग पर सवाल खड़े करते हुए पेपर में आए 4 सवालों के सही उत्तर लिखे होने के बावजूद आयोग द्वारा गलत ठहराए जाने पर हाईकोर्ट में याचिका दायर की। काफी समय तक कोर्ट प्रक्रिया और सुनवाई के चलते आखिरकार 11 जुलाई 2022 को हाईकोर्ट ने परीक्षा को चुनौती देने वाली याचिका को निस्तारित करते हुए न सिर्फ परीक्षा परिणाम से रोक हटाई, बल्कि आयोग को जल्द से जल्द परिणाम घोषित करने के आदेश दिए। इसके बाद भी आयोग ने अभी तक इस परीक्षा के परिणाम घोषित नहीं किये हैं.
आयोग की तरफ से पुलिस रैंकर परीक्षा परिणाम घोषित न होने का आलम यह है कि जिन कांस्टेबल ने दारोगा बनने के लिए परीक्षा पास कर मेरिट में जगह बनाई थी, वे मजबूरी में हेड कांस्टेबल की ट्रेनिंग ले रहे हैं। इसकी एक वजह यह भी हैं कि इन अभ्यर्थियों ने हेड कांस्टेबल की परीक्षा भी पास की। जिसका परिणाम पहले ही घोषित हो चुका है। अब आगामी 28 अगस्त को ऐसे जवानों की ट्रेनिंग समाप्त हो जाएगी, लेकिन आयोग की तरफ से दरोगा परीक्षा परिणाम का कोई अता पता नहीं है।
पुलिस विभाग में 1521 रिक्त नए पुलिस जवानों पदों के लिए भी उत्तराखंड अधीनस्थ चयन सेवा आयोग कब लिखित परीक्षा कराएगा, यह मामला भी अधर में लटका हुआ है। इसकी एक बड़ी वजह वर्तमान में आयोग के 2021 परीक्षा पेपर लीक मामले की जांच को बताया जा रहा है। आयोग के मुताबिक यूकेएसएसएससी पेपर लीक मामले की जांच मुकम्मल होने के बाद ही पुलिस की नई भर्ती परीक्षा आयोजित कराई जाएगी। हालांकि इस मामले में पुलिस मुख्यालय ने हस्तक्षेप करते हुए आयोग को परीक्षा जल्द आयोजित कराने की अपील की है, क्योंकि 1521 नए रिक्त पदों के लिए शारीरिक मापदंड जैसी परीक्षा संपन्न करा पुलिस विभाग अपनी रिपोर्ट पहले ही आयोग को सौंप चुका है। अब देखना यह है कि जांच का जिन्न बोतल से बाहर कब निकलेगा।

About team HNI

Check Also

धामी ने लोनिवि, एनएच और बीआरओ को पढ़ाया पाठ

देहरादून। आज सोमवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लोक निर्माण विभाग, एनएच और बीआरओ …

Leave a Reply