नैनीताल: बुधवार को नैनीताल के तल्लीताल में एक अनूठी घटना घटी। हुआ यह कि यहां नवाड़खेड़ा गौलापार हल्द्वानी का ललित गुप्ता नाम का एक युवक अपने बड़े भाई जितेंद्र गुप्ता (32) पुत्र राम अवतार गुप्ता की डेढ़ वर्ष से खोज करता हुआ उसका पोस्टर चिपकाने के लिए पहुंचा था। वह चीता मोबाइल के वरिष्ठ आरक्षी शिवराज राणा को अपने खोए हुए भाई के बारे में बता ही रहा था कि तभी सामने से एक युवक मोटरसाइकिल में आता हुआ दिखाई दिया। पूछताछ में उसने ढूंढ रहे व्यक्ति का भाई होने से पहले तो इनकार किया, लेकिन बाद में मान लिया कि वह उसका भाई ही है। उसके भाई ललित ने बताया कि 19 फरवरी, 2019 को उसकी गुमशुदगी थाना काठगोदाम में दर्ज कराई गई थी। भाई का यह भी कहना था कि वह कहीं से कर्ज लेने के बाद पत्नी-बच्चों आदि को भी बिना बताये घर से भाग आया था, तभी से परिजन उसकी तलाश कर रहे थे। उसने बताया कि घर में उसकी पत्नी व दो बेटियां व एक बेटा तथा पिता व तीन भाई हैं। घर में रोज-रोज की किच-किच से परेशान होकर वह नैनीताल आ गया था और यहां मल्लीताल के केबल डिस्ट्रीब्यूटर के पास नौकरी कर रहा था। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद उसे उसके भाई के साथ घर भेज दिया गया।