Thursday , December 8 2022
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / अब अग्निवीर भर्ती प्रक्रिया पर महाराज ने ही उठाए सवाल, कहा…!

अब अग्निवीर भर्ती प्रक्रिया पर महाराज ने ही उठाए सवाल, कहा…!

देहरादून। लॉन्चिंग के वक्त से ही मोदी सरकार की ओर से सेना में भर्ती की अग्निवीर योजना विवादों में रही है. विपक्ष शुरू से ही इस योजना को लेकर केंद्र सरकार की इस नीति पर सवाल उठाता रहा है। अब भाजपा सरकार के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने ही इस भर्ती को लेकर सवाल उठाते हुए कहा कि उत्तराखंड में अग्निवीरों की भर्ती प्रक्रिया में नियमों का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। इस भर्ती में दौड़, लंबाई और शारीरिक क्षमता की माप नियमों के विरुद्ध की जा रही है।
गौरतलब है कि कोटद्वार में सीएम पुष्कर सिंह धामी ने 19 अगस्त को अग्निवीरों की भर्ती योजना को लॉन्च किया था। जिसके बाद यहां पर अग्निवीर योजना के तहत भर्ती जोरों पर चल रही है। ये भर्ती 31 अगस्त तक चलेगी। अब इस भर्ती को लेकर महाराज का कहना है कि उत्तराखंड के युवाओं के लिए फौज की भर्ती में लंबाई 163 सेंटीमीटर तय है जो पूर्व थल सेना अध्यक्ष बिपिन रावत के समय तय की गई थी, लेकिन अब भर्ती में लंबाई की माप बढ़ा दी गई है। वहीं दौड़ में भी सभी मानकों को दरकिनार किया जा रहा है।
अग्निवीर भर्ती योजना में भाजपा सरकार के ही मंत्री द्वारा उठाए गए सवालों के बाद अब विपक्ष ने भी धामी सरकार पर हमला बोलना शुरू कर दिया है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करण माहरा का कहना है कि अग्निवीर भर्ती को लेकर विपक्ष पहले से ही यह बात कह रहा था और अब सरकार के ही मंत्री नियमों के विरुद्ध भर्ती की बात कह रहे हैं। इससे साफ जाहिर है कि प्रदेश में युवाओं के साथ सरकार खिलवाड़ कर रही है और मानकों के विरुद्ध भर्ती की जा रही है।
हालांकि अग्निवीर भर्ती की लांचिंग के दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और विधानसभा अध्यक्ष रितु खंडूडी ने यह दावा किया था कि भर्ती प्रक्रिया के दौरान युवाओं को किसी तरह की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा, लेकिन युवाओं को चरित्र प्रमाणपत्र से लेकर अन्य दस्तावेज के लिए चक्कर काटने पड़ रहे हैं। अब कैबिनेट मंत्री की ओर से ही नियमों के विरुद्ध भर्ती कराने की बात से कई सवाल खड़े हो गए हैं। 

About team HNI

Check Also

सरकार का यू टर्न : माना- रामदेव की दवाओं पर बैन यानी गलती से हुई ‘मिस्टेक’!

अब आयुर्वेद विभाग ने हटाई दिव्य फार्मेसी की पांच दवाओं के उत्पादन पर लगाई गई …

Leave a Reply