Wednesday , November 30 2022
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / देहरादून : बैंक कर्मियों की मिलीभगत से बिल्डर ने फ्लैट देने के नाम पर हड़पे 90 लाख

देहरादून : बैंक कर्मियों की मिलीभगत से बिल्डर ने फ्लैट देने के नाम पर हड़पे 90 लाख

देहरादून। राजपुर क्षेत्र में फ्लैट दिलाने के नाम पर एसए बिल्डटेक बिल्डर ने मालसी में ऑर्टिगो रेजीडेंसी नाम से हाउसिंग प्रोजेक्ट में दो पीड़ितों को फ्लैट दिलाने के नाम पर लाखों रुपए हड़प लिये। आरोपियों ने दोनों ग्राहकों से फ्लैट बेचने का सौदा किया और उनके नाम से लोन लेकर किसी दूसरे को बेच दिये। पुलिस ने दोनों पीड़ितों की तहरीर के आधार पर आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।
मामले के अनुसार अतुल शर्मा और आशा रावत ने पुलिस में दी शिकायत में बताया कि दोनों ने अलग-अलग एसए बिल्डटेक बिल्डर मालसी में ऑर्टिगो रेजीडेंसी नाम से हाउसिंग प्रोजेक्ट में अलग-अलग फ्लैट खरीदने के लिए डील की थी। बिल्डर ने फ्लैट बनाने पर अलॉट करने का पत्र भी दिया और इस पत्र पर आईसीआईसीआई बैंक से लोन स्वीकृत कराया गया। दिलचस्प बात यह है कि बैंक ने रजिस्ट्री हुए बिना ही लोन की रकम बिल्डर के खाते में भेज दी।
शिकायतकर्ताओं के मुताबिक लोन जारी होते वक्त बिल्डर ने कहा था कि वो कब्जा देने तक खुद किस्त देगा, लेकिन कुछ महीने तक लोन की किस्त देकर बंद कर दी। बाद में पता चला कि आशा रावत को जो फ्लैट मिलना था, उसकी रजिस्ट्री किसी अन्य को कर दी गई। किस्त जमा न होने पर बैंक ने दोनों के ऊपर दबाव बनाया। जबकि दोनों के नाम पर हुए लोन की 90 लाख रुपए से ज्यादा की रकम बिल्डर के पास चली गई।
थाना राजपुर प्रभारी मोहन सिंह ने बताया कि दोनों पीड़ितों की तहरीर पर एसए बिल्डटेक के निदेशक प्रेम दत्त शर्मा, आराधना शर्मा, सुनीता शर्मा, अरुण सहगल  और जमीन मालिक सुनील अग्रवाल, बिचौलिया गौरव आहूजा के साथ आईसीआईसीआई बैंक के तत्कालीन प्रबंधक और कर्मचारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोपी बिल्डर के खिलाफ पहले भी चार मुकदमे दर्ज हैं।

About team HNI

Check Also

सरकार का यू टर्न : माना- रामदेव की दवाओं पर बैन यानी गलती से हुई ‘मिस्टेक’!

अब आयुर्वेद विभाग ने हटाई दिव्य फार्मेसी की पांच दवाओं के उत्पादन पर लगाई गई …

Leave a Reply