थराली से हरेंद्र बिष्ट।

बधाण राजराजेश्वरी मां नंदा देवी की उत्सव डोली अपने 5 वें पड़ाव सूना में अमावस्या की पूजा के लिए पहुंच गई हैं। 14 अगस्त को अपने सिद्ध पीठ कुरुड़ से चलकर विभिन्न पड़ावो को पार कर मंगलवार को रात्रि विश्राम के लिए थराली पहुंच गई है। यहां पहुंचे पर नंदा भक्तों ने अपने इष्ट देवी नंदा भगवती का पुष्प वर्षा कर जयकारों के साथ भव्य स्वागत किया। मंगलवार को प्रात: राजराजेश्वरी मां नंदा भगवती का उत्तसव डोला सोल डुंग्री से मैन होते हुए देर सांय सूना गांव पहुंच गई हैं।इस दौरान डुग्री से लेकर सूना तक पूरे यात्रा रूट पर नंदा भक्तों ने देवी की पूजा अर्चना कर मनौतियां मांगी।
श्रद्धालु एक गांव से दूसरे गांव तक देव डोली का स्वागत एवं अश्रुपूर्ण विदाई कर रहे हैं। इस बार कोरोना के चलते श्रद्धांलुओं ने कई सावधानियों के साथ दर्शन एवं पूजा अर्चना की। सूना पहुंचने पर समाजसेवी प्रेम बुटोला, थराली नगर पंचायत के पार्षद हरीश पंत, शंभू प्रसाद बहुगुणा, नंदू बहुगुणा, संदीप रावत, रमेश थपलियाल आदि ने देब डोली का स्वागत किया। कल (आज)नंदा की डोली थराली गांव,केदारबगड़,राडीबगड़ होते हुए रात्रि विश्राम के लिए चेपडू गांव पहुंचेगी।इस यात्रा के दौरान मंदिर समिति कुरूड़ के अध्यक्ष मंसाराम गौड़ देवराड़ी मंदिर समिति के अध्यक्ष भूवन हटवाल ने नंदा भक्तों से कोरोना संक्रमण को देखते हुए मास्कों के साथ ही सामाजिक दूरी बनाते हुए डोली के दर्शन की अपील की हैं।