Tuesday , September 28 2021
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / उत्तराखंड के प्रख्यात चिकित्सक ने कही ये बहुत बड़ी बात!

उत्तराखंड के प्रख्यात चिकित्सक ने कही ये बहुत बड़ी बात!

दिग्भ्रमित समाज को दिखाया आईना

  • स्कूल बच्चों की ऑक्सीजन ही नहीं, सबसे बड़ा सामाजिक सुरक्षा-कवच
  • स्कूलों को आवश्यक सेवाओं की भांति खोला जाना चाहिये
  • तीसरी दुनिया के बच्चों के लिए स्कूल से बड़ा सुरक्षा कवच नहीं

देहरादून। उत्तराखंड के प्रख्यात चिकित्सक सीनियर फिजिशियन डॉ. एनएस बिष्ट ने आज रविवार को कहा कि स्कूल बच्चों की ऑक्सीजन ही नहीं, सबसे बड़ा सामाजिक सुरक्षा-कवच है। इसलिये स्कूलों को आवश्यक सेवाओं की भांति खोला जाना चाहिये।
उन्होंने कहा कि चुनिंदा अल्प संसाधनों वाले देशों को छोड़ दिया जाये तो अधिकतर देशों में स्कूल पहले ही खुल चुके हैं या खुलने जा रहे हैं। आश्चर्य की बात यह है कि अभी भी वैक्सीन बिना स्कूल न खोलने की गर्मागर्म बहस जारी है। वैज्ञानिक विश्लेषण कहते हैं कि कम उम्र के बच्चों में गंभीर कोरोना का खतरा   न्यूनतम है और सारे प्राइमरी स्कूल तो खुल ही जाने चाहिए।
डॉ. एनएस बिष्ट ने कहा, अभिभावक चिंतित हैं कि मासूम बच्चों को “मोहरा” बनाया जा रहा है। दूसरी तरफ वैज्ञानिक शोधों का दावा है कि कम खतरे वाले बच्चों को टीका लगाना गैरजरूरी और समय-संसाधनों की बर्बादी है। कोरोना काल ने इंसान को जहां नवाचार के लिए प्रेरित किया है, वहीं हमारी संरक्षणवादी मानसिकता को अंधेरे पुराने नकारात्मक युग में पहुंचा दिया है। अभिभावकों के लिए स्कूल “खतरे के केन्द्र” से कम नहीं तो मीडिया के लिए बच्चे महा-प्रसारी (सुपर-स्प्रेडर) से अधिक नही। दूसरी तरफ कोरोनाकाल की अनिश्चितता और नकारात्मकता ने कूट-विज्ञान और कूट-भावनाओं का हिस्टीरिया भी खूब फैलाया है।
उन्होंने कहा कि मां-बाप, मीडिया, डॉक्टर, राजनीतिक लोग सभी एक हिस्टीरिया के शिकार हैं- जिसमें बच्चों के प्रति अति संरक्षणवाद हावी है। तीसरी लहर की आशंका और बच्चों के टीकाकरण की अनिश्चितता के बीच स्कूलों को पूर्ण रूप से खोले जाने के कदम का कई अभिभावकों और राजनीतिकों के द्वारा विरोध जारी है। जबकि महामारी वो वक्त है जब हर कोई किसी दूसरे की तरफ जरूरी दिशा-निर्देश के लिए ताकता हुआ लग रहा है। बच्चों को घर के अन्दर बोनसाई की तरह कैद हुए 18 महीने  बीत चुके हैं तब भी कई लोगों को स्कूल जरूरी नहीं लगता। कतिपय को लगता है कि शिक्षा का “स्कूल-मॉडल” फेल हो चुका है- अब वर्चुअल क्लासरूम ही भविष्य है, लेकिन इस बात की अनदेखी नहीं की जा सकती कि स्कूल सिर्फ शिक्षा नही देते बल्कि बच्चों के “समग्र-विकास” के केन्द्र हैं।
डॉ. बिष्ट ने कहा कि बच्चों के लिए तो स्कूल असल “सुरक्षा-कवच” का काम करते हैं जहां उनको पोषण के साथ-साथ पूरा दिन एक सुरक्षित माहौल में बिताने को मिलता है। इसलिए सवाल अब ये नहीं उठना चाहिए कि स्कूल खुले या नहीं, बल्कि बहस इस बात पर होनी चाहिए कि हम अपने स्कूली-तंत्र को और कितना “गहन, सक्रिय और विविधतापूर्ण” बना सकें कि बच्चों से छिने हुए उनके 18 महीने उनको वापस दिला सकें।
उन्होंने कहा कि मुख्य चिंता इस बात की है कि सिर्फ खोलने के लिए स्कूल न खुलें- बल्कि स्कूलों को कर्ई कदम तेज-तेज चलने होंगे ताकि पीछे छूटे हुए 18 महीने वापस पा सकें। इन बातों का मजबूत आधार भी है कि स्कूल खोलना पूरी तरह से सुरक्षित हैं। अमेरिका के उत्तरी कैरोलिना में 90 हजार स्कूली बच्चों में हुए अध्ययनों में पाया गया है कि कोरोना की स्कूली- संक्रमण और प्रसार की दर सामुदायिक संक्रमण से काफी नीचे है। उसी तरह विस्कोंसिन के 17 स्कूलों में हुए शोध बताते हैं कि बच्चों के लिए सामाजिक क्षेत्र से अधिक सुरक्षित स्कूल हैं। जर्मनी, फ्रांस, आयरलैंड, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर में हुए अन्वेषण बताते हैं कि बच्चों से स्कूली संक्रमण न के बराबर फैलता है।
उन्होंने बताया कि ज्यादातर देशों में क्लासरूम की खिड़कियों को खुला रखने के अलावा मास्क, सोशल पार्थक्य इत्यादि पर भी जोर नहीं दिया गया है। ये अध्ययन अभिभावकों की चिंता तो कम करते ही हैं तथा इस बात की भी तसदीक करते हैं कि बच्चों में सामुदायिक संक्रमण से कम खतरा स्कूली प्रसार में है । वास्तव में बच्चों के लिए सबसे सुरक्षित जगह स्कूल ही है। कम से कम कोरोनाकाल की नकारात्मकता में तो यही सबसे ज्यादा परिलक्षित हो रहा है।
डॉ. बिष्ट ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर सम्भाव्य है, लेकिन इस बात की आशंका न्यून है कि स्कूल इसके परिकेन्द्र होंगे। जरूरत वयस्कों द्वारा सामुदायिक प्रसार को रोकने की है। जरूरत वयस्कों द्वारा कोविड-उपयुक्त व्यवहार जारी रखने की है। जरूरत वयस्कों द्वारा टीकाकरण में प्रतिभाग करने की है। और जरूरत  इस बात पर जोर देने की भी है कि स्कूल जरूरी भी है और सुरक्षित भी। दीर्घ काल में स्कूल ही बच्चों के सबसे बड़े सुरक्षा कवच बने रहेंगे।

About team HNI

Check Also

गढ़वाल आयुक्त ने ऋषिकेश यात्रा प्रशासन संगठन कार्यालय सहित चारधाम यात्रा, श्री हेमकुंड जी यात्रा हेतु ब्यवस्थाओं का जायजा लिया

• ऋषिकेश में पार्किंग हेतु चंद्रभागा नदी के किनारे खाली क्षेत्र को चिह्नित करने हेतु …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *