Friday , February 16 2024
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / दरोगा भर्ती धांधली: अब शासन करेगा इन दरोगाओं के भविष्य का फैसला, विजिलेंस ने सौंपी रिपोर्ट

दरोगा भर्ती धांधली: अब शासन करेगा इन दरोगाओं के भविष्य का फैसला, विजिलेंस ने सौंपी रिपोर्ट

देहरादून। विजिलेंस ने दरोगा भर्ती में अपनी जांच पूरी कर शासन को रिपोर्ट सौंप दी है। विजिलेंस को कई दरोगाओं के खिलाफ पैसे देकर भर्ती होने के साक्ष्य नहीं मिले हैं, जबकि कई पर आरोप साबित हुए हैं। 20 दरोगा पिछले साल जनवरी से सस्पेंड चल रहे हैं। अब इन दरोगाओं के भविष्य का फैसला शासन में ही होना है। बताया जा रहा है कि जल्द सतर्कता समिति की बैठक में इन दरोगाओं के खिलाफ मुकदमे या अन्य कार्रवाई पर फैसला होना है।

दरअसल साल 2015 में राज्य में कुल 339 पदों पर दरोगाओ की सीधी भर्ती की गई थी. जिसमें बड़े स्तर पर धांधली की बात सामने आई थी। हालांकि इस भर्ती के पूरा होने के बाद नियुक्तियां भी दे दी गई थी, लेकिन साल 2022 में एसटीएफ ने जब स्नातक स्तरीय परीक्षा की धांधली की जांच शुरू की तो इसी जांच में पता चला कि पूर्व में हुई दरोगा भर्ती में भी बड़े स्तर पर धांधली की गई है। इन्हीं तथ्यों के आधार पर पुलिस मुख्यालय के स्तर से इस पर विजिलेंस जांच के निर्देश दिए गए थे।

हालांकि जब जांच शुरू हुई तो इस पर विवाद बेहद ज्यादा बढ़ गया. उधर भर्ती में गड़बड़ी में शामिल संभावित दरोगाओं को भी निलंबित कर दिया गया था, ऐसे कुल 20 दरोगा थे, जिन्हें निलंबित किया गया था। विजिलेंस ने अब इस मामले में जांच पूरी करते हुए अपनी रिपोर्ट शासन को भेज दी है. साल 2015 की दरोगा भर्ती पंतनगर विश्वविद्यालय द्वारा करवाई गई थी और अब जब रिपोर्ट तैयार कर ली गई है तो इस मामले में कई लोगों पर कानूनी शिकंजा कसे जाने की उम्मीद है।

About team HNI

Check Also

सेना में अग्निवीर भर्ती के लिए आवेदन शुरू, पद नाम और चयन प्रक्रिया बदली, जानिए

Agniveer Bharti 2024 : भारतीय सेना में अग्निवीर भर्ती 2014 के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया …

Leave a Reply