Tuesday , August 9 2022
Breaking News
Home / चर्चा में / करीबी अभिनेत्री के यहा 20 करोड़ कैश मिलने के बाद ममता सरकार के मंत्री पार्थ भी गिरफ्तार

करीबी अभिनेत्री के यहा 20 करोड़ कैश मिलने के बाद ममता सरकार के मंत्री पार्थ भी गिरफ्तार

कोलकाता। आज शनिवार को प्रवर्तन निदेशालय ने पश्चिम बंगाल में ममता सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी को गिरफ्तार कर लिया। उन्हें शिक्षक भर्ती घोटाले के मामले में अरेस्ट किया गया है। एक दिन पहले ही उनकी करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के घर पर भी ईडी की रेड पड़ी थी। इस छापे में करीब 20 करोड़ रुपये मिलने का दावा किया गया था।
मामले में मजिस्ट्रेट नीलम शशि कुजूर ने कोलकाता के बैंकशाल कोर्ट में सुनवाई की। हालांकि पार्थ को मजिस्ट्रेट के सामने पेश नहीं किया गया। मजिस्ट्रेट ने कहा कि चूंकि यह एक विशेष मामला है, यह इस अदालत के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता है। इसके बाद कोर्ट ने पार्थ को दो दिन की ईडी हिरासत में भेज दिया। अब पार्थ को सोमवार को सुबह 10.30 बजे विशेष अदालत में पेश किया जाएगा।
गौरतलब है कि ईडी के अधिकारियों ने कथित शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में पार्थ चटर्जी से शुक्रवार को रातभर पूछताछ की। एजेंसी के अधिकारियों ने चटर्जी से आवास पर शुक्रवार सुबह आठ बजे से उनसे पूछताछ शुरू की थी, इसके बाद आज शनिवार को उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। जब यह घोटाला हुआ था, तब चटर्जी राज्य के शिक्षा मंत्री थे। प्रवर्तन निदेशालय इस घोटाले में कथित रूप में शामिल लोगों के खिलाफ धनशोधन संबंधी पहलू की जांच कर रहा है।
ममता सरकार में नंबर दो पार्थ चटर्जी अभी उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री हैं। सीबीआई दो बार उनसे पूछताछ कर चुकी है। पश्चिम बंगाल के शिक्षा राज्यमंत्री अधिकारी से भी सीबीआई पूछताछ कर चुकी है। हालांकि उनकी बेटी स्कूल शिक्षक की अपनी नौकरी गंवा चुकी हैं।
तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा, हम हालात पर निकटता से नजर रख रहे हैं। हम उचित समय पर इस मामले पर बयान जारी करेंगे। इस बीच विधानसभा अध्यक्ष बिमान बनर्जी ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय को विधानसभा के किसी सदस्य को गिरफ्तार करने से पहले अध्यक्ष को इसके बारे में सूचित करना चाहिए। उन्होंने कहा, ईडी या सीबीआई को किसी भी सांसद या विधायक को गिरफ्तार करते समय लोकसभा या विधानसभा के अध्यक्ष को सूचित करना होता है। यह संवैधानिक नियम है, लेकिन चटर्जी की गिरफ्तारी के बारे में ईडी से मुझे कोई सूचना नहीं मिली।
पश्चिम बंगाल सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के घर पर भी ईडी ने छापा मारा। रिपोर्ट के मुताबिक इस दौरान ईडी ने करीब 20 करोड़ रुपये नकद बरामद किए हैं। अर्पिता के अलावा ईडी ने कई और ठिकानों पर छापे मारे हैं। इस सूची में मंत्री पार्थ चैटर्जी, माणिक भट्टाचार्य, आलोक कुमार सरकार, कल्याण मॉय गांगुली जैसे नाम शामिल बताए गए हैं। इतनी बड़ी जब्ती के बाद आरबीआई का एक ट्रक अर्पिता के घर पर पहुंचा है। ट्रक में कई सील बंद ट्रंक रखे गए हैं। प्रवर्तन निदेशालय के मुताबिक 14 स्थानों पर तलाशी ली गई, जिनमें अर्पिता मुखर्जी के आवास सहित दो संदिग्ध स्थान थे। उनके घर से बरामद दस्तावेज दो पक्षों के बीच सीधे तौर पर लिंक और पैसे के आदान-प्रदान को दर्शाता है।
इस बीच बताया जा रहा है कि पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद ईडी ने उनके पूर्व निजी सचिव (ओएसडी) सुकांत आचार्य को आज शनिवार सुबह उत्तर 24 परगना के उनके घर से हिरासत में लिया। उसके बाद उन्हें सीजीओ कॉम्प्लेक्स लाया गया। पार्थ चटर्जी जब जोका ईएसआई अस्पताल से मेडिकल जांच से निकल रहे थे, तब जब उनसे पूछा गया कि क्या अभिनेत्री से उनकी बातचीत हुई तो उन्होंने कहा कि मैंने कोशिश की थी, लेकिन नहीं हो पाई। ईडी अधिकारी बाद में मंत्री को जोका ईएसआई अस्पताल लेकर पहुंचे। करीब डेढ़ घंटे के मेडिकल परीक्षण के बाद वे बाहर निकले।
घोटाले में पार्थ और उनकी करीबी अर्पिता की गिरफ्तारी के बाद अब ईडी की रडार पर पार्थ की एक और करीबी मोनालिसा दास। मोनालिसा दास को मंत्री का एक और करीबी और सहयोगी बताया जा रहा है। मोनालिसा दास घर बोलपुर शांति निकेतन में है। उसकी 10 से अधिक संपत्तियां मिल चुकी हैं, इनमें कई फ्लैट हैं। ईडी यह भी जांच कर रहा है कि उसका पार्थ चटर्जी के साथ कोई संबंध है कि नहीं। मोनालिसा दास 2014 में आसनसोल में काजी नजरूल विश्वविद्यालय में एडमिशन लिया था और वर्तमान में उसी विश्वविद्यालय में बंगाली विभाग की प्रमुख हैं।

About team HNI

Check Also

भारत को झटका : नीरज कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर!

वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में लगी थी चोट, एक महीने करेंगे आराम नई दिल्ली। ओलंपिक गोल्ड …

Leave a Reply