Wednesday , November 30 2022
Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / उत्तराखंड में यूपी पुलिस की दबिश के दौरान बवाल, फायरिंग में महिला की मौत

उत्तराखंड में यूपी पुलिस की दबिश के दौरान बवाल, फायरिंग में महिला की मौत

काशीपुर। उधमसिंह नगर के कुंडा थाना क्षेत्र के भरतपुर गांव में बुधवार रात सादी वर्दी में दबिश देने आई यूपी पुलिस की कारवाई के दौरान हुई फायरिंग में जसपुर ब्लाक के ज्येष्ठ प्रमुख की पत्नी की गोली लगने से मौत हो गई। और छह पुलिसकर्मी घायल हो गए। बताया जा रहा है कि मुरादाबाद पुलिस 50 हजार के इनामी खनन माफिया जफर की तलाश में ज्येष्ठ ब्लॉक प्रमुख के यहां दबिश देने पहुंची थी। उसी को लेकर पूछताछ करने पर इस दौरान ज्येष्ठ प्रमुख और टीम के बीच कहासुनी हो गई। बात बढ़ने पर दोनों तरफ से फायरिंग हो गई।

आरोप है कि यूपी एसओजी की टीम ने भी इसी दारौन फायरिंग कर दी, जिसमें ज्येष्ठ प्रमुख की पत्नी गुरप्रीत कौर (28) गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गई। उन्हें इलाज के लिए काशीपुर के एक निजी अस्पताल ले गए, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मौत की सूचना पर ग्रामीण आक्रोशित हो गए और उन्होंने कुंडा थाने के सामने फोर लेन पर जाम लगा दिया।​वहीं इस साथ ही चार पुलिसकर्मियों को पकड़कर कुंडा पुलिस के हवाले कर दिया। भुल्लर की तहरीर पर कुंडा पुलिस ने यूपी पुलिस के 10-12 जवानों पर हत्या का केस दर्ज किया है। ठाकुरद्वारा पुलिस को सूचना मिली थी कि 13 सितंबर को पुलिस दल पर हमला करने वाला इनामी खनन माफिया जफर भरतपुर में जसपुर के ज्येष्ठ उपप्रमुख भुल्लर के यहां छिपा हुआ है।

ठाकुरद्वारा कोतवाल योगेंद्र सिंह के नेतृत्व में पुलिस व एसओजी टीम ने बुधवार रात भुल्लर के फार्म हाउस की घेराबंदी कर ली। सादे कपड़ों में अनजान लोगों को देखकर परिजनों ने ललकारा। मुरादाबाद के डीआईजी शलभ माथुर के अनुसार, ग्रामीणों ने पुलिस टीम को बंधक बना लिया और फायरिंग की। गोली लगने से दो और संघर्ष में चार पुलिसकर्मी घायल हो गए। ग्रामीणों का आरोप है कि यूपी पुलिस की फायरिंग में ड्यूटी कर घर लौट रही गुरजीत को गोली लग गई। उसे निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां मृत घोषित कर दिया गया।

​वहीं काशीपुर की इस घटना ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। यूपी पुलिस उत्तराखंड में आकर एक जनप्रतिनिधि के घर में घुसकर फायरिंग कर देती है और उत्तराखंड पुलिस को इसकी खबर ही नहीं होती। नियम कायदों को ताक पर रखने का नतीजा ही है कि इस घटना ने दोनों राज्यों की पुलिस को आमने सामने ला खड़ा किया है।

वहीं भाजपा विधायक पूर्व कैबिनेट मंत्री उत्तराखंड सरकार अरविंद पांडे ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि पुलिस द्वारा तत्काल कार्यवाही करते हुए मुकदमा दर्ज कर लिया गया है, उन्होंने कहा कि यूपी पुलिस के नाम पर जिन लोगों ने यह गुंडागर्दी की है वह असहनीय है हमें विश्वास है कि पुलिस जल्द इस मामले का खुलासा करेगी।

About team HNI

Check Also

उत्तराखंड : कामकाजी महिलाओं को सुरक्षा की शक्ति देगी ‘गौरा शक्ति’!

देहरादून। आज शनिवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड पुलिस एप के अन्तर्गत सरकारी …

Leave a Reply